भाजपा विधायक के लोगों ने फाड़े कपड़े, भरे बाजार नंगा कर पीटा, देखे वीडियो

चंडीगढ़ । किसान नए कृषि कानूनों के विरुद्ध पिछले 4 महीनों से आंदोलन एवं विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. इन नए तीन कृषि कानूनों को रद्द करवाने की मांग किसानों द्वारा की जा रही है. 27 मार्च 2021 यानी शनिवार को किसानों का एक अलग ही रूप देखने को मिला है. भाजपा विधायक अरुण नारंग को पंजाब के मुक्तसर जिले के मलोट में किसानों द्वारा दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया. इस घटना में विधायक के सारे कपड़े फट गए. भाजपा विधायक को बहुत चोटें भी आई हैं. किसानों ने भाजपा विधायक के चेहरे पर कालिख पोत दी.

punjab mla news

पुलिस ने नग्न अवस्था में भीड़ से बचाया

पंजाब के अबोहर विधानसभा सीट से अरुण नारंग बीजेपी के विधायक हैं. 27 मार्च शनिवार को वह मलोट पहुंचे थे. यहां पर अरुण नारंग पंजाब सरकार के विरुद्ध एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल होने के लिए पहुंचे थे. बीजेपी ऑफिस के सामने पहले से ही बहुत बड़ी तादाद में किसान इकट्ठा हो चुके थे और उनके आने का ही इंतजार कर रहे थे. अरुण नारंग जैसे ही अपनी गाड़ी से उतरे लोगों ने उन्हें घेर लिया. सबसे पहले उनके साथ धक्का-मुक्की की गई फिर उन पर इंटे फैंकी की गई. उसके बाद विधायक के सारे कपड़े फाड़ दिए गए. अरुण नारंग एवं उनके समर्थकों को बहुत पीटा गया, गाली गलौज की गई. नारंग को भीड़ के बीच से नग्न अवस्था में पुलिस द्वारा बचाया गया. भीड़ ने उन पर और उनकी कार पर भी कालिख पोती और काफी नुकसान पहुंचाने की खबरें मिल रही हैं.

यह भी पढ़े -   Weather Update: सक्रिय होंगे एक के बाद एक पश्चिमी विक्षोभ, हरियाणा में इस दिन से बारिश की संभावना

दो और बीजेपी नेताओं के साथ हुई मारपीट

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अरुण नारंग के अतिरिक्त दो और बीजेपी नेताओं के साथ किसानों द्वारा मारपीट की गई. सभी नेताओं को भीड़ के बीच से निकालकर पुलिस एक दुकान में ले गई और फिर सभी को पीछे के रास्ते से बाहर निकाला गया. लगभग 1 घंटे तक यह हाथापाई चली और इस दौरान एक पुलिस अधिकारी को भी चोटें आई हैं. दोपहर को 3:00 बजे बीजेपी कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस होनी थी, जहां पर कोई भी बीजेपी नेता पहुंच नहीं पाया.

यह भी पढ़े -   हरियाणा के तापमान में गिरावट आने से बदला मौसम, यहां पढ़ें ताजा अपडेट

संयुक्त किसान मोर्चा ने की निंदा

संयुक्त किसान मोर्चा ने किसानों द्वारा किए गए इस कृत्य की कड़ी निंदा की है. किसान मोर्चा के अनुसार किसान आंदोलन बिल्कुल भी हिंसक नहीं होना चाहिए और यह बड़े ही दुख की बात है कि जनता द्वारा चुने गए प्रतिनिधियों के साथ इस तरह का व्यवहार किया गया है.

 

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!