तीसरी लहर के कोरोना लक्षण दूसरी लहर से है बिल्कुल अलग, यहा जानिए इस बार के कोरोना लक्षण

चंडीगढ़ | हरियाणा में कोरोना का खतरा काफी बढ़ गया है. तीसरी लहर में कोरोना के लक्षण भी दूसरी लहर की तुलना में काफी अलग है. बता दें कि दूसरी लहर के दौरान ज्यादातर मरीजों को पहले बुखार आता था. लेकिन इस बार ऐसे कोई लक्षण देखने को नहीं मिल रहे हैं. डॉक्टरों की मानें तो तीसरी लहर में लक्षण दूसरी लहर से बिल्कुल अलग है. इस खबर को पढ़कर जानिए तीसरी लहर के प्रमुख लक्षण क्या है.

corona

राज्य में कोरोना का खतरा काफी बढ़ गया है. गौरतलब है कि तीसरी लहर में कोरोना के लक्षण बिल्कुल अलग है. ज्यादातर मरीजों का पहले गला खराब होता है, उसके बाद उन्हें बुखार आता है. इस बार सबसे अलग लक्षण यह है कि पॉजिटिव मरीजों के शरीर पर लाल दाने उभर रहे हैं. इस प्रकार के लक्षण पहली तथा दूसरी लहर में देखने को नहीं मिले थे. तीसरी लहर देशभर में लगातार पिक की तरफ बढ़ रही है.

कोरोना के बढ़ते खतरे के कारण सभी को सतर्क रहने की तथा संक्रमण से अपना बचाव करने की आवश्यकता है. सीएमओ डॉ योगेश शर्मा ने इस बात की जानकारी दी कि दूसरी लहर के कोरोना संक्रमण में और तीसरी लहर के संक्रमण में काफी फर्क है. उन्होंने बताया कि दूसरी लहर में सामान्य तौर पर मरीजों को पहले बुखार होता था, तेज सिर दर्द और खांसी होती थी. लेकिन इस बार ऐसे लक्षण नहीं देखने को मिल रहे हैं. इस बार संक्रमित मरीजों का पहले गला खराब होता है, बदन दर्द और फिर उसके बाद बुखार होता है. तीसरी लहर में सबसे राहत की बात यह है कि अब तक जितने भी मरीज पॉजिटिव आए हैं, वे होम आइसोलेशन में ही ठीक हो जा रहे हैं.

यह भी पढ़े -   8 फरवरी को हरियाणा कैबिनेट की अहम बैठक, सीएम मनोहर लाल खट्टर करेंगे अध्यक्षता

दूसरी लहर में ये थे संक्रमण के लक्षण

बता दें कि दूसरी लहर के दौरान संक्रमित मरीजों में बुखार, सिर में तेज दर्द और खांसी प्रारंभिक लक्षण थे. इसके बाद अचानक ऑक्सीजन लेवल कम हो जाना और मरीज को एकदम से सांस लेने में तकलीफ होना दूसरी लहर के कोरोना संक्रमण के आम लक्षण थे.

यह भी पढ़े -   केन्द्रीय कर्मचारियों को 18 महीने का DA एरियर मिलेगा या नहीं, सामने आई ये बड़ी अपडेट

तीसरी लहर में ये है संक्रमण के लक्षण

तीसरी लहरी के दौरान मरीजों में सामान्य लक्षण के रूप में पहले गला खराब होता है. उसके बाद पूरे बदन में दर्द होने लगता है तथा लास्ट में बुखार आता है. इस बार अहम लक्षण के रूप में मरीजों के शरीर पर लाल दाने उभर रहे हैं. लेकिन यह तो बड़ी बात यह है कि तीसरी लहर में अधिकतर मरीजों का ऑक्सीजन लेवल कम नहीं हो रहा है.

यह भी पढ़े -   1 जनवरी से इन केन्द्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता हुआ 29.4 फीसद, जानिए सालभर में कितना हाइक

15 साल से अधिक उम्र के लोग हो रहे संक्रमित

बता दें कि दूसरी लहर के संक्रमण व तीसरी लहर के संक्रमण में काफी अंतर है. इस बार कोरोना संक्रमण 15 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को अपनी चपेट में ले रहा है, वही अभी तक मरीज पॉजिटिव मिले हैं. वह ज्यादा गंभीर स्थिति में नहीं है, जबकि दूसरी लहर में कोरोना मरीज बहुत जल्द चिंताजनक स्थिति में पहुंच जाते थे. कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए लोगों को कोरोना की गाइडलाइन का पालन गंभीरता से करना चाहिए. मास्क लगाएं और 2 गज की दूरी का पालन भी करें. जिन लोगों ने अभी तक वैक्सीनेशन नहीं करवाया है, वे भी जल्द वैक्सीनेशन करवा ले.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!