हरियाणा में किसानों को बरसात से भारी नुकसान, 8 लाख एकड़ फसल डूबी; यहाँ देखे चौंकाने वाले आंकड़े

चंडीगढ़ | बारिश होने की वजह से हरियाणा के किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है. वहीं, अब सरकारी आंकड़े सामने आ गए हैं. आंकड़ों के मुताबिक किसानों के 8 लाख एकड़ में पानी भर गया. हरियाणा में 5 दिनों की बारिश से किसान तनाव में आ गए हैं क्योंकि प्रारंभिक रिपोर्ट में राज्य में 8 लाख एकड़ खेत बारिश के पानी से भर गए हैं, जिन्हें निकालने में 7 दिन लगेंगे. हालांकि, हरियाणा सरकार ने सभी जिलों के डीसी को खेतों से पानी निकालने का निर्देश दिया है. साथ ही, सरकार की ओर से आज से फसलों को हुए नुकसान के लिए विशेष गिरदावरी शुरू करने के निर्देश भी जारी किए गए हैं.

crop destroyed fasal kharab

करनाल में 90,000 एकड़ फसल प्रभावित

अकेले करनाल जिले में ही 90 हजार एकड़ धान के खेत बारिश के पानी से भरे हुए हैं. कैथल में 4000 एकड़ धान की फसल प्रभावित हुई है. कृषि विभाग के शुरुआती आंकड़ों में खुलासा हुआ है कि राज्य में करीब 8 लाख एकड़ धान के खेत बारिश के पानी से भर गए हैं. किसान फसल को बचाने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं. वहीं, सरकार की ओर से खेतों में भरे पानी को निकालने का प्रयास किया जा रहा है.

हरियाणा के किसानों ने बताया कि पूसा-1509 और पीआर-126 जैसी मुख्य रूप से कम अवधि की किस्मों को नुकसान पहुंचा है. नमी की मात्रा अधिक होने के कारण भविष्य में बाजार में इनकी कीमतों में गिरावट आ सकती है. जो लोग अपनी फसल काट कर अनाज मंडियों में पहुंचे हैं. वे आढ़तियों की हड़ताल के कारण अपनी उपज नहीं बेच पा रहे हैं.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में गरीब परिवारों को बड़ा झटका, नियम 134-A खत्म करने के फैसले को हाईकोर्ट ने ठहराया सही

खेतों में पड़ी फसल, अंकुरित अनाज

बारिश के बाद चल रही हवा से धान व बाजरे की फसल खेतों में बिखर गई है. खेतों में पानी भर जाने से फसल के दाने अंकुरित होने लगे हैं. मजबूरी में किसान ऐसी फसल फेंकने को मजबूर हैं. किसानों का कहना है कि सीएम मनोहर लाल बारिश से फसलों को हुए नुकसान के मुआवजे के लिए विशेष व्यवस्था करें.

यह भी पढ़े -   हरियाणा कैबिनेट की बैठक में सीएम खट्टर ने लिए कई अहम फैसलें, यहाँ पढ़ें एक लाइन में...

रिपोर्ट के आधार पर दिया जाएगा मुआवजा

कृषि मंत्री जेपी दलाल ने कहा कि बारिश से प्रभावित फसलों की विशेष रिपोर्ट तैयार की जाएगी. जिसके आधार पर किसानों को फसलों को हुए नुकसान की भरपाई की जाएगी. इसके लिए अधिकारियों को निर्देश दे दिए गए हैं. साथ ही एक सप्ताह में खेतों में जमा पानी निकल जाएगा और रबी फसल की बुवाई तक खेतों से पानी निकाला जाएगा. यदि इस मामले में कोई चूक हुई है तो कार्रवाई की जाएगी.

सुरजेवाला ने कहा- सो रहे खट्टर-दुष्यंत सरकार

बारिश से फसलों को हुए नुकसान को लेकर हरियाणा कांग्रेस सरकार पर हमलावर हो गया है. राज्यसभा सांसद रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा है कि मंडी से लेकर खेत तक लाखों एकड़ फसल बर्बाद हो गई है, पानी की निकासी नहीं, एमएसपी नहीं, मुआवजा नहीं. हरियाणा की खट्टर-दुष्यंत सरकार सो रही है. फीडर की चीख-पुकार सुनने वाला कोई नहीं है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!