राहत की खबर: जून में थोक महंगाई दर में आई गिरावट, लेकिन खाने- पीने का सामान महंगा

चंडीगढ़ | थोक महंगाई लगातार 15वें महीने दहाई अंक में बनी हुई है. हालांकि, थोक मूल्य सूचकांक आधारित (WPI) मुद्रास्फीति दर जून में घटकर 15.18% पर आ गई है. पिछले महीने यानि मई में यह 15.88% पर था. इससे पहले अप्रैल में यह 15.08%, मार्च में यह 14.55% थी, जबकि फरवरी में यह 13.11% थी.

shop dukan

  • खाद्य महंगाई जून में 12.41 फीसदी पर पहुंच गई, जो मई में 10.89 फीसदी थी.
  • सब्जियों की महंगाई दर 56.36 फीसदी से बढ़कर 56.75 फीसदी हो गई है.
  • आलू की महंगाई 24.83 फीसदी से बढ़कर 39.38 फीसदी हो गई.
  • अंडे, मांस और मछली की मुद्रास्फीति 7.78% से घटकर 7.24% हो गई.
  • प्याज की कीमतों में कमी आई है. यह -20.40% से घटकर -31.54% हो गया.
  • विनिर्मित उत्पादों में मुद्रास्फीति 10.96% से घटकर 9.19% हो गई.
  • ईंधन और बिजली सूचकांक, जिसमें एलपीजी, पेट्रोलियम और डीजल जैसे आइटम शामिल हैं, 40.62% से घटकर 40.38% हो गया.
  • थोक महंगाई लगातार 15वें महीने दहाई अंक में बनी हुई है.
यह भी पढ़े -   भारत में 5G नेटवर्क आने के बाद क्या होंगे बदलाव, यहां जाने अपने सवालों का सही जवाब

मासिक मुद्रास्फीति दर

अप्रैल 10.74%
मई 13.11%
जून 12.07%
जुलाई 11.16%
अगस्त 11.64%
सितंबर 10.66%
अक्टूबर 13.83%
नवंबर 14.87%
दिसंबर 14.27%
जनवरी 13.68%
फरवरी 13.11%
मार्च 14.55%
अप्रैल 15.08%
मई 15.88%
जून 15.18%

आम आदमी पर WPI का प्रभाव

थोक महंगाई में लंबे समय से बढ़ोतरी चिंता का विषय है. यह ज्यादातर उत्पादक क्षेत्र को प्रभावित करता है. यदि थोक मूल्य बहुत लंबे समय तक अधिक रहता है, तो निर्माता इसे उपभोक्ताओं को दे देते हैं. सरकार केवल करों के माध्यम से WPI को नियंत्रित कर सकती है

उदाहरण के लिए कच्चे तेल में तेज उछाल की स्थिति में सरकार ने ईंधन पर उत्पाद शुल्क में कटौती की थी. हालांकि, सरकार एक सीमा के भीतर ही टैक्स काट सकती है, क्योंकि उसे सैलरी भी देनी होती है.WPI में धातु, रसायन, प्लास्टिक, रबर जैसे कारखाने से संबंधित सामान को अधिक वेटेज दिया जाता है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा विधानसभा का मानसून सत्र, डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने किया यह बड़ा ऐलान

खुदरा महंगाई दर 7.04% से घटकर 7.01% हुई

ईंधन और बिजली के लिए खाद्य पदार्थों की कम मुद्रास्फीति के कारण खुदरा मुद्रास्फीति में कमी आई है.सोमवार को जारी सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित खुदरा महंगाई जून में घटकर 7.01 फीसदी पर आ गई. मई में यह 7.04 फीसदी थी.

हालांकि, यह लगातार पांचवां महीना है जब महंगाई दर आरबीआई की 6% की ऊपरी सीमा को पार कर गई है. खुदरा मुद्रास्फीति जनवरी 2022 में 6.01%, फरवरी में 6.07%, मार्च में 6.95% और अप्रैल में 7.79% दर्ज की गई थी.

मुद्रास्फीति को कैसे मापा जाता है?

भारत में मुद्रास्फीति दो प्रकार की होती है. एक है रिटेल, यानी रिटेल और दूसरा है थोक महंगाई. खुदरा मुद्रास्फीति की दर आम ग्राहकों द्वारा दी जाने वाली कीमतों पर आधारित होती है. इसे उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) भी कहा जाता है. जबकि, थोक मूल्य सूचकांक (WPI) उन कीमतों को संदर्भित करता है जो थोक बाजार में एक व्यापारी दूसरे व्यापारी से वसूलता है. ये कीमतें थोक में किए गए सौदों से जुड़ी हैं.

यह भी पढ़े -   हो जाएं सावधान! चप्पल पहन कर बाइक चलाने पर कटता है इतने का चालान

दोनों प्रकार की मुद्रास्फीति को मापने के लिए विभिन्न मदों को शामिल किया गया है. उदाहरण के लिए, थोक मुद्रास्फीति में विनिर्मित उत्पादों की हिस्सेदारी 63.75% है, प्राथमिक वस्तुएँ जैसे भोजन 20.02% और ईंधन और बिजली 14.23%. वहीं, खुदरा मुद्रास्फीति में खाद्य और उत्पादों की हिस्सेदारी 45.86%, आवास 10.07%, कपड़े 6.53% और ईंधन सहित अन्य वस्तुओं का भी योगदान है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!