इंजीनियर की नौकरी छोड़कर मुस्लिम परिवार बना रहा हैं रावण, मेघनाथ और कुंभकरण का पुतला

पानीपत । हरियाणा के पानीपत में आगरा का एक मुस्लिम परिवार पिछले कई पीढ़ियों से दशहरे पर जलाए जाने वाले रावण, मेघनाथ और कुंभकरण के पुतले बना रहा है. वही पुतले बनाने वाले कारीगरों का कहना है कि पहले इनके पिता यहां पर आकर पुतले बनाया करते थे. अब वह 30 साल से यहां पर खुद पुतले बना रहे हैं.खास बात यह है कि  इस मुस्लिम परिवार का बेटा सॉफ्टवेयर इंजीनियर भी उनके साथ आकर पुतले बना रहा है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में किसानों की सरकार को चेतावनी, कहां- सब्र का इम्तिहान मत लीजिए

Ravan Dahan

यह मुस्लिम परिवार दे रहा है भाई चारे का संदेश

वही पुतले बनाने वाले असगर अली ने बताया कि पहले पीडब्ल्यूडी में सिविल इंजीनियर के पद पर काम करते थे. परंतु काफी समय पहले उन्होंने नौकरी छोड़ दी. अब वह रावण, कुंभकरण और मेघनाथ के पुतले बनाने का काम कर रहे हैं. वहीं उन्होंने कहा कि उनका यह काम पुश्तैनी था,  इसलिए उन्हें किसी से सीखने की आवश्यकता नहीं पड़ी. वह एक महीना पहले ही पानीपत में इसके लिए आ जाते हैं. साथ ही उन्होंने बताया कि वह पंजाब, चंडीगढ़ में भी जाकर पुतले बनाते हैं.

यह भी पढ़े -   कृषि मंत्री के गांव में एक युवक को सुनाई गई तालिबानी सजा, जानें क्या है मामला

उनके पास अलग-अलग तरह के पुतलों की डिमांड आती है. वही असगर अली ने बताया कि उनका पूरा परिवार इस काम में उनकी सहायता करता है. असगर अली ने बताया कि शुरुआत में उनके  समाज के लोगों ने कई बार उनको हिंदू धर्म के लिए काम करने से मना किया. परन्तु उन्होंने अपना पुश्तैनी कार्य नहीं छोड़ा. उन्होंने बताया कि एक बार वे पानीपत मे पुतले बनाने का काम खत्म कर अपने घर आगरा गए थे.  ज़ब वह किसी मस्जिद में चले गए, जब वह दान करने लगे तो मौलवी ने दान लेने से मना कर दिया और बोला तुम हिंदुओं के त्योहारों के पुतले बना कर आए हो इसलिए हम तुम्हारा चंदा नहीं लेंगे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!