हरियाणा में एक बार फिर राजनीति ने पकड़ी आग, पंजाब के CM कैप्टन अमरिंदर के बयान पर भड़के विज 

चंडीगढ़ । पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बयान के बाद राजनीति ने एक बार फिर से आग पकड़ ली है और अब कैप्टन अमरिंदर सिंह हरियाणा के स्वास्थ्य एवं गृहमंत्री अनिल विज के निशाने पर आ गए हैं. हरियाणा के मंत्री अनिल विज ने कैप्टन अमरिंदर सिंह के बयान को गैर जिम्मेदाराना बताया है और उनकी जमकर आलोचना की है. दरअसल कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने बयान में कहा था कि पंजाब में किसान 113 जगहों पर आंदोलन कर रहे हैं

Anil Vij

ये राज्य के हित में नहीं है. अगर उन्हें केंद्र सरकार के प्रति नाराजगी ज़ाहिर करनी है तो हरियाणा या फिर दिल्ली जाएं. वहां वो जो चाहे करें. ज़ाहिर है उन्होंने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि हरियाणा और केंद्र सरकार में बीजेपी का शासन है. लेकिन इसके बाद हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने नाराजगी ज़ाहिर की और उन्होंने कहा कि इस बयान से ऐसा लगता है जैसे किसानों को भड़काने का काम पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ही किया है.

बता दें कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने सोमवार को विभिन्न किसान यूनियनों के प्रतिनिधियों से अपील की थी कि वे केंद्र द्वारा पारित कृषि कानूनों के खिलाफ राज्यभर में विरोध प्रदर्शन न करें क्योंकि राज्य सरकार और उसके लोगों ने पहले ही इसके साथ एकजुटता व्यक्त की है. किसान आंदोलन पर चिंता जाहिर करते हुए कैप्टन ने कहा- अगर आपको केंद्र सरकार पर दबाव बनाना है तो अपना आंदोलन दिल्ली- हरियाणा में कीजिए. पंजाब को अपने आंदोलन से अशांत मत कीजिए.

राज्य में विरोध प्रदर्शन करने से बचना चाहिए

वह होशियारपुर के चब्बेवाल विधानसभा क्षेत्र के ग्राम मुखलियाना में जनसभा को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि जिस राज्य की जनता किसानों के जायज मुद्दों के पक्ष में उनके साथ चट्टान की तरह खड़ी हो, उसे भाजपा द्वारा पारित इन कृषि कानूनों के खिलाफ राज्य भर में विरोध प्रदर्शन करने से बचना चाहिए.

राज्य के हित में नहीं है प्रदर्शन

कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि पंजाब में 113 जगहों पर किसानों द्वारा किया जा रहा विरोध प्रदर्शन राज्य के हित में बिल्कुल भी नहीं है, इससे उसके आर्थिक विकास पर काफी असर पड़ा है और उम्मीद है कि आंदोलन करने वाले किसानों द्वारा उनके अनुरोध को स्वीकार किया जाएगा. शहीद भगत सिंह नगर के सौंखड़ी एक अन्य जनसभा में उन्होंने कहा कि शिरोमणि अकाली दल ने खेती कानूनों के मुद्दे पर किसानों को धोखा दिया है.

कैप्टन ने 2016 में जब दिया था भड़काऊ बयान

पंजाब कांग्रेस के प्रधान कैप्टन अमरिंदर सिंह ने 2016 में आम आदमी पार्टी के पंजाब कन्वीनर गुरप्रीत सिंह घुग्गी के बारे में विवादित बयान दिया था. उन्होंने सीधे-सीधे कहा था कि घुग्गी धर्म विरोधी है और उसकी जमकर पिटाई की जानी चाहिए. घुग्गी द्वारा ‘आप’ नेताओं की तुलना श्री गुरु गोबिंद सिंह महाराज और पांच प्यारों से करने पर यह तीखी प्रतिक्रया जताई थी. उन्होंने कहा था कि यह धर्म विरोधी कृत्य है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा: स्ट्रीट लाइट टेंडर में 900 करोड़ का घोटाला, बैकफुट पर शहरी निकाय अधिकारी

अली बाबा और चालीस चोर

25 अगस्त 2021 को पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार मलविंदर सिंह माली ने एक बार फिर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह को लेकर विवादित बयान दिया था. मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर टिप्पणी करते हुए मलविंदर सिंह माली ने ‘अली बाबा और चालीस चोर’ कहा था. इतना ही नहीं, उन्होंने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी को नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार ने लुधियाना का ‘भगोड़ा’ करार दिया था वहीं, पंजाब सरकार में मंत्री विजय इंदर सिंगला को ‘चालीस चोर’ में से एक बताया था.

यह भी पढ़े -   1 अक्टूबर से शुरू होगी धान की खरीद, किसान खुद कर सकेंगे शेड्यूलिंग

गौरतलब है कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि पंजाब में 113 जगहों पर किसानों द्वारा किया जा रहा विरोध प्रदर्शन राज्य के हित में बिल्कुल भी नहीं है. इससे उसके आर्थिक विकास पर काफी असर पड़ा है. 

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!