हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री के गृह जिले में स्वास्थ्य सेवाओं का पीटा डोल, सात दिन में तीन गर्भवती महिलाओं की मौत

अंबाला । हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के गृह जिले में स्वास्थ्य सेवाओं का इस कदर हाल-बेहाल है कि यहां अंबाला छावनी के सिविल अस्पताल में गर्भवती महिलाओं की लगातार मौत से हड़कंप मच गया है. यहां सात दिन में तीन महिलाएं अपनी जान गंवा चुकी है. ऐसे में आप अंदाजा लगा सकते हैं कि जब स्वास्थ्य मंत्री के गृह जिले में स्वास्थ्य सेवाओं का ये हाल है तो बाकी हरियाणा के अस्पतालों का क्या हाल होगा. बताया जा रहा है कि सीजेरियन डिलीवरी के बाद इन महिलाओं की मौत हुई है.

Anil Vij

एक महिला की मौत अस्पताल के ऑपरेशन थियेटर में हुई है जबकि दो महिलाओं ने चंडीगढ़ पीजीआई में दम तोड़ दिया. अस्पताल प्रबंधन की ओर से अब इन महिलाओं की मौत को लेकर एक जांच कमेटी का गठन किया गया है. रिपोर्ट के आधार पर ही महिलाओं की मौत की वजह का पता लगाया जा सकेगा.

बता दें कि वीरवार शाम को कलरहेड़ी निवासी एक महिला डिलीवरी के लिए छावनी के सिविल अस्पताल में भर्ती हुई थी. सीजेरियन डिलीवरी के बाद उसकी हालत बिगड़ गई और खून का स्त्राव अधिक होने की वजह से महिला की हालत गंभीर हो गई. इसके बाद उसे दोबारा ऑपरेशन थियेटर में लें जाया गया जहां उसकी मौत हो गई. बेशक इन मौतों को लेकर कोई हंगामा खड़ा नहीं हुआ हों लेकिन लगातार तीन गर्भवती महिलाओं की मौत से अब अस्पताल की स्वास्थ्य सेवाओं पर प्रश्न चिन्ह लगाएं जा रहें हैं.

यह भी पढ़े -   सरस्वती नदी को पुनर्जीवित करने की योजना पर हरियाणा, हिमाचल सरकारों के बीच होंगे MOU पर हस्ताक्षर

ऑडिट कमेटी भी कर रही है रिव्यू

सिविल अस्पताल में गर्भवती महिलाओं की मौत को लेकर ऑडिट कमेटी भी रिव्यू कर रही है. रिव्यू को अभी सार्वजनिक नहीं किया गया है. रिपोर्ट के आधार पर ही महिलाओं की मौत की स्थिति स्पष्ट हो सकेगी. हालांकि दबी जुबान में यहां पर कार्यरत स्टाफ कर्मचारी यहां की व्यवस्थाओं को कसूरवार ठहरा रहे हैं.

यह भी पढ़े -   राज्यपाल दत्तात्रेय ने कोरोना से बचाव के लिए 'रेड क्रॉस सोसायटी' द्वारा तैयार 4000 किट भेजी

यहां के गायनी वार्ड में स्टाफ नर्सों की कमी बताई जा रही है. अभी इस वार्ड में केवल दो नर्स है जबकि यहां चार नर्सों की जरूरत है. अस्पताल में हाई रिस्क वाली गर्भवती महिलाओं के लिए आईसीयू की व्यवस्था भी नहीं है. कई बार सीजेरियन डिलीवरी से पहले और बाद में महिलाओं की स्थिति बिगड़ जाती है. आईसीयू की व्यवस्था न होने के चलते महिलाओं को मजबूरन चंडीगढ़ पीजीआई रेफर करना पड़ता है. अल्ट्रासाउंड व लैब टेस्ट की रिपोर्ट पर भी सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं.

यह भी पढ़े -   पड़ोसी पर नजर रखकर 500 से 10,000 तक कमाएं, हिसार नगर निगम का अब तक का सबसे बड़ा ऑफर

अस्पताल में विशेषज्ञ चिकित्सकों की कमी

यहां के सिविल अस्पताल में हर रोज 10 से ज्यादा डिलीवरी होती है. मगर यहां केसों के हिसाब से विशेषज्ञ चिकित्सकों की तैनाती नही है. अस्पताल में कोई रेजिडेंट सर्जन की नियुक्ति नहीं है और ऐसे में जरूरत पड़ने पर प्राइवेट अस्पताल से सर्जन को बुलाया जाता है. अभी अस्पताल में सिर्फ दो ही चिकित्सकों की देखरेख में सर्जरी की जा रही है. अस्पताल में पड़ोसी जिलों से भी डिलीवरी केस आने पर यहां के स्टाफ पर काम का बोझ बढ़ जाता है. यहां स्टाफ नर्सिंग की भी कई पोस्ट खाली पड़ी है. ऐसे में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं का दावा करने वाले इस अस्पताल की सच्चाई कोसों दूर हैं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!