खुले में नमाज के मामले और किसानों के अल्टीमेट के बारे में पहली बार बोले अनिल विज, कह दी यह बड़ी बातें

चंडीगढ़ | हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने पहली बार गुरुग्राम में खुले में नमाज पढ़ने की घटना पर अपनी प्रतिक्रिया दी हैं. अनिल विज ने कहा सभी को अपने धार्मिक आयोजन उनके निर्धारित धार्मिक स्थानों के अंदर ही करने चाहिए. किसी भी रास्ते पर प्रशासन की अनुमति के बगैर कोई धार्मिक आयोजन करने से बचने की आवश्यकता है.

anil vij

अनिल विज ने गुरुग्राम में सड़क पर नमाज पढ़ने की घटना और उसी जगह गोवर्धन पूजा करने की घटना पर पहली बार मीडिया के सामने अपने विचार रखे हैं. उन्होंने रास्ते पर नमाज पढ़ने और गोवर्धन पूजा रास्ते पर करने के संदर्भ में भी कहा है कि किसी भी प्रकार के धार्मिक आयोजन को रास्तों पर नहीं करना चाहिए. ऐसे आयोजनों को अपने धार्मिक स्थान के अंदर ही करना उचित है. बिना प्रशासन की इजाजत के किसी भी प्रकार का आयोजन सड़कों पर ना किया जाए तो बेहतर है.

जानिए किसानों द्वारा दिए गए अल्टीमेट पर क्या बोले अनिल विज

किसान नेता राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार को कृषि कानून रद्द करने के लिए 26 नवंबर तक का समय दिया है. गृह मंत्री अनिल विज ने किसानों के सरकार को दिए गए अल्टीमेट को लेकर भी बड़ा बयान मीडिया के सामने दिया है. उन्होंने किसान नेताओं को सवालों के कटघरे में लाकर खड़ा कर दिया है. अनिल विज ने कहा कि किसान नेता ही इस मामले का समाधान नहीं चाहते है. सरकार ने किसानों को अनेक बार बातचीत के लिए आमंत्रित किया, किंतु अनजान कारणों से किसान बातचीत में शामिल नहीं होना चाहते हैं.  अनिल विज ने यह भी कह दिया कि इनके आंदोलन के पीछे क्या राजनीति है. इसके संदर्भ में किसान नेता ही जानते हैं.

यह भी पढ़े -   स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना की प्रोटोकॉल को सख्ती से लागू कराने के दिए आदेश, जानिए क्या है नई गाइडलाइन

गुरुग्राम में खुले में नमाज पढ़ने के मामले ने काफी विस्तार ले लिया है. आपको बता दें कि बीते 3 महीनों में पहले गुरुग्राम के सेक्टर 47 और उसके बाद सेक्टर 12 में चयनित स्थानों पर खुले में नमाज को लेकर विरोध के मामले सामने आ रहे हैं. बीते शुक्रवार को भी तीन दर्जन लोगों के खिलाफ खुले में नमाज के विरोध को लेकर मामला तक दर्ज कर दिया गया था. लेकिन जैसे ही अमित शाह का बयान खुले में नमाज को लेकर सामने आया. वैसे ही संयुक्त संघर्ष समिति, विश्व हिंदू परिषद समेत कई हिंदू संगठन खुलकर खुले में नमाज के विरोध में एकजुट हो जिला प्रशासन के पास पहुंच गए थे.

यह भी पढ़े -   दुष्यंत चौटाला: हरियाणवी युवाओं को मिलेगा 75 प्रतिशत रोजगार

गुरुग्राम में खुले में नमाज पढ़ने के संदर्भ में कई विपक्ष के दिग्गज नेताओं ने जमकर हमला बोला है. जब गुरुग्राम में नमाज पढ़ने वाली जगह पर गोवर्धन पूजा मनाई गई तो इस पर तो मानिए जंग ही छिड़ गई. उसके बाद इस घटना पर काफी समय के बाद अनिल विज ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से स्पष्ट करते हुए कहा कि किसी भी प्रकार के धार्मिक आयोजनों को रास्तों पर नहीं करना चाहिए बिना प्रशासन की अनुमति के, धार्मिक आयोजनों को उनके धार्मिक स्थानों के अंदर ही करना चाहिए. किसी भी धर्म के लोगों को अपने धार्मिक आयोजनों को सड़कों पर नहीं करना चाहिए. ऐसा करना उचित नहीं है. धार्मिक आयोजनों के लिए धार्मिक स्थानों का ही प्रयोग किया जाना ही ठीक है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!