हरियाणा कांग्रेस में बन रहे हैं नए समीकरण, कुलदीप बिश्नोई और पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा की दोस्ती

नई दिल्ली । हरियाणा कांग्रेस में नए समीकरण बन रहे हैं. बता दें कि कभी आपस में छत्तीस का आंकड़ा रखने वाले वरिष्ठ कांग्रेस नेता कुलदीप बिश्नोई और पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बीच नई दोस्ती पनपती हुई दिखाई दे रही है. हरियाणा कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा दोनों के निशाने पर है. शैलजा को पद से हटाने के लिए कुलदीप और हुड्डा के सूर मिल गए हैं.

KULDEEP

कुलदीप बिश्नोई बोल रहे है पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा की भाषा 

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री भजनलाल के बेटे विधायक कुलदीप बिश्नोई भी अब भूपेंद्र सिंह हुड्डा की भाषा बोल रहे हैं. बता दें कि कुलदीप ने राज्य में 7 साल से पार्टी का संगठन नहीं होने पर सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि राज्य में मजबूत नेतृत्व ही कांग्रेस की सरकार बनाने में सक्षम है. वही कुलदीप बिश्नोई ने कहा कि पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ना तो कांग्रेस छोड़कर कहीं जाएंगे और ना ही नहीं पार्टी बनाएंगे.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में अपना घर खरीदने वालों के लिए अच्छी खबर, बढ़ी फ्लैटों के आवेदन की तिथि

वह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता है और पार्टी को मजबूत करने के लिए काम कर रहे हैं. इसी के साथ कुलदीप बिश्नोई ने पूर्व सीएम से अपने पुराने राजनीतिक गिले-शिकवे को भूलने की बात भी कही. उनका कहना है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी शैलजा को बदलने का फैसला हाईकमान को करना है. उन्होंने कहा कि किसान संगठनों के आंदोलन से राज्य में भाजपा के खिलाफ बने माहौल को भुनाने में कांग्रेस का मौजूदा प्रदेश नेतृत्व कामयाब नहीं हो पाया है.

साथ ही उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान यदि मौजूदा हालात कायम रहे तो हरियाणा विधानसभा में किसी दल को स्पष्ट बहुमत हासिल नहीं होगा. इसका फायदा भाजपा को ही मिलेगा. वही कुलदीप का कहना है कि उनके समर्थक ही नहीं बल्कि,  राज्य कांग्रेस के कार्यकर्ता नेतृत्व परिवर्तन को लेकर हाईकमान के इशारे का इंतजार कर रही हैं.

यह भी पढ़े -   कार्यसमिति बैठक में सोनिया गांधी के रुख ने साफ की हरियाणा कांग्रेस की तस्वीर, कुमारी शैलजा बनी रहेगी प्रदेश अध्यक्ष

यदि उन्हें हाईकमान ने प्रदेश कांग्रेस की कमान दी तो वह कांग्रेस का खोया हुआ वोट बैंक वापस लेकर आएंगे. उन्होंने कहा कि उनके संपर्क में 16 पूर्व विधायक है लेकिन वे तभी कांग्रेस पार्टी में शामिल होंगे जब हाईकमान से उन्हें संगठन की ताकत मिलेगी. कांग्रेस बिना भजनलाल परिवार को ताकत दिए राज्य में सरकार नहीं बना पाएगी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!