हरियाणा में डिजिटल हुई पढ़ाई, स्मार्ट क्लास रूम में बच्चे कर रहे हैं पढ़ाई

सिरसा । जिन कक्षाओं में पढ़ने से कभी बच्चों का मन कतराता था , उन्हीं कक्षाओं में पढ़ाई अब आकर्षण का केंद्र बनी हुई है. पढ़ाई के दौरान जिन्हें नींद आने लगती थी ,अब वही बच्चे झूमते,गाते हुए पढ़ाई कर रहे हैं. बता दें कि यें नजारा स्मार्ट क्लास का है और वो भी किसी प्राइवेट स्कूल का नहीं बल्कि राजकीय प्राथमिक विद्यालयों में देखने को मिल रहा है. जी हां इन स्कूलों में पढ़ाई बिल्कुल स्मार्ट तरीके से स्मार्ट टीवी पर हों रही है. मॉडल संस्कृति स्कूलों के बाद अब जिले के 36 राजकीय विद्यालयों में 91 डिजिटल बोर्ड लगा दिए गए हैं. अब सरकारी स्कूलों के बच्चे भी सुविधाओं के मामले में निजी स्कूलों को टक्कर दे रहे हैं.

यह भी पढ़े -   हरियाणा के स्कूलों में सामने आ रहे है बच्चों में बीमारियां के केस, स्वास्थ्य विभाग ने शुरू किया सर्वे

SCHOOL STUDENT

आधुनिकता से रोचक पढ़ाई

कोरोना काल के चलते सरकारी व गैरसरकारी स्कूल बंद थे. अब स्कूल खुलते ही स्कूलों में स्मार्ट क्लास के जरिए पढ़ाई हो रही है. स्मार्ट क्लास में आधुनिक पाठ्यक्रम को बच्चों को रोचक तरीके से पढ़ाया जा रहा है. जो कविताएं व पहाड़े पहले बच्चों को रटाए जातें थे , उसे अब बच्चे गाकर पढ़ रहे हैं. साउंड सिस्टम व टीवी स्क्रीन पर बच्चों को जो पढ़ाया जाता है वही लिखा हुआ दिखता है. इससे बच्चे जहां मस्ती-2 में पढ़ाई कर रहे हैं वही साथ ही तेजी से सीख भी रहे हैं. इस पाठ्यक्रम में बच्चों को मूल्यों की शिक्षा भी दी जा रही है ताकि बच्चे अच्छा आचरण व शिष्टाचार भी सीख सकें.

यह भी पढ़े -   हरियाणा सुपर-100 कार्यक्रम लाया रंग: सरकारी स्कूल के 26 विद्यार्थियों का आईआईटी चयन

रोचक हुआ विषयों को पढ़ना-पढ़ाना

राजकीय विद्यालयों में स्मार्ट क्लास पाठ्यक्रम में हिंदी व इंग्लिश विषयों के पाठ्यक्रम को शामिल किया गया है. अध्यापक क्लास में जो भी बच्चों को पढ़ाते हैं ,उसका प्रेक्टिकल भी बच्चों को उसी समय दिखाने व समझाने में सक्षम है. इन सब्जेक्ट्स में अब इक्वेशन के एप्लिकेशन को विजुअल सपोर्ट के जरिए कक्षा में ही दिखाया जाता है , जिससे हर क्रिया पर होने वाली प्रतिक्रिया भी उसी समय नजर आ जाती है.

अध्यापकों को दिया गया है प्रशिक्षण

राजकीय विद्यालयों में स्मार्ट क्लास शुरू करने से पहले सभी अध्यापकों को प्रशिक्षित किया गया है. पुलिस लाइन स्थित राजकीय मिडल स्कूल की इंचार्ज रेखा रानी ने बताया कि बच्चों की पढ़ाई रुचिकर ही होनी चाहिए और स्मार्ट क्लास के जरिए बच्चों की रूचि भी साफ नजर आ रही है. समग्र शिक्षा अभियान के सहायक परियोजना अधिकारी नरेंद्र कुमार ने बताया कि मॉडल संस्कृति स्कूलों के बाद जिलें के 36 राजकीय विद्यालयों में 91 डिजिटल बोर्ड लगा दिए गए हैं. बच्चों को पढ़ाई करने का नया तरीका मिला है और बच्चे भी इन कक्षाओं में रुचि दिखा रहे हैं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!