आंदोलनकारियों से कैथल में टोल प्‍लाजा खाली कराने पहुुंचा प्रशासन, जोरदार हंगामा

कैथल ।  शनिवार को संगतपुरा टोल प्लाजा को खाली कराने के लिए कैथल प्रशासन टोल स्थल पर पहुंच गया. वहां धरना दे रहे किसानों ने साफ शब्दों में कह दिया कि जब तक केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए तीनों कृषि कानून रद्द नहीं होते तब तक किसान धरना प्रदर्शन बंद नहीं करेंगे और टोल से नहीं उठेंगे. अगर किसानों को टोल से हटाने के लिए कैथल पुलिस प्रशासन ने जबरदस्ती की और बल का प्रयोग किया तो सरकार को आने वाले समय में इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा.

faridabad kisan

शनिवार को पुलिस फोर्स डीएसपी कुलवंत सिंह की अगुवाई में संगतपुरा टोल प्लाजा पर पहुंच गई. उन्होंने वहाँ उपस्थित किसानों से कहा कि आला अधिकारियों ने उन्हें आदेश दिए हैं कि जल्द से जल्द टोल प्लाजा को खाली करवाया जाए. इसलिए किसान स्वयं टोल प्लाजा को खाली कर दें और टोल प्लाजा वालों को टोल वसूल करने दे. परंतु वहां उपस्थित किसानों ने कहा कि वह सब यहां बैठकर शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. अपनी मांगों को सरकार के सामने रखने का सभी को अधिकार है. उन्होंने कहा कि यहां पर कोई भी असामाजिक तत्व उपस्थित नहीं है. यहां पर किसी तरह की घटिया हरकत नहीं होगी.

यह भी पढ़े -   जिन बच्चों के अभिभावक कोरोना संक्रमित, उनकी देखभाल करेगा प्रशासन

आसपास के गांवों से इकट्ठे हुए किसान

जैसे ही टोल प्लाजा पर पुलिस के आने की खबर आसपास के क्षेत्रों में फैली भारी संख्या में किसान गांव से टोल प्लाजा पर आने लगे. किसानों ने वहां आते ही नारेबाजी आरंभ कर दी. साथ ही नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की. किसानों ने कहा कि नए कृषि कानूनों को वापस ले लिया जाए. उसके पश्चात टोल प्लाजा को स्वतंत्र कर दिया जाएगा. इसी दौरान किसान भरत सिंह बेनीवाल ने जानकारी देते हुए कहा कि यदि प्रशासन ने जोर जबरदस्ती से टोल प्लाजा को खुलवाया तो किसान यह किसी भी हालत में सहन नहीं करेंगे.

यह भी पढ़े -   बैंकों और ATM के समय में हो सकता है बड़ा बदलाव, कम होगा पब्लिक डीलिंग का समय

एसडीएम और तहसीलदार ने की याचना

नायब तहसीलदार ईश्वर सिंह और एसडीएम संजय कुमार ने किसानों से याचना की कि किसान टोल से हट जाएं और किसी अन्य स्थान पर धरना दें. परंतु किसानों ने एक नहीं मानी. किसानों ने अधिकारियों को कहा कि वह तब तक धरना प्रदर्शन रोक नहीं सकते जब तक उन्हें दिल्ली से उनके बड़े अधिकारियों का आदेश नहीं आता.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!