हरियाणा सरकार इन परिवारों को देगी बिना ब्याज लोन, जाने पूरी योजना

पंचकुला । हरियाणा सरकार प्रदेश के सबसे गरीब 1 लाख परिवारों को ढूंढने के लिए उद्योगपतियों और 40 हजार स्वयं सहायता समूहों की सहायता लेने जा रही है. हरियाणा सरकार उद्योगपतियों से गरीब परिवारों को गोद लेने की सिफारिश करेगी और साथ ही स्वरोजगार हेतु बिना ब्याज के ऋण भी देगी.

CM

एक लाख गरीब परिवारों के पश्चात आएगा अगले 1 लाख गरीब परिवारों का नंबर

सोमवार को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने हरियाणा के सबसे गरीब एक लाख परिवारों की वार्षिक आय को 1 लाख रुपए तक पहुंचाने के लिए संबंधित अधिकारियों को इस योजना पर तेजी से कार्य करने के आदेश दिए हैं. उन्होंने आदेश देते हुए कहा है कि हरियाणा के सबसे गरीब 1 लाख परिवारों की सालाना आय बढ़ाने के पश्चात अगले एक लाख परिवारों का लक्ष्य बनाया जाएगा. यह क्रम इसी प्रकार लगातार आगे बढ़ता रहेगा.

यह भी पढ़े -   मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने की प्रेस कांफ्रेंस, जारी किया पैकेज, जनता से की यह अपील, जाने

गरीब परिवारों की खोज हेतु स्वयं जाना होगा

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने ड्रीम प्रोजेक्ट की उन्नति की समीक्षा करते हुए कहा कि यह सबसे गरीब एक लाख परिवार खुद योजना का लाभ लेने हेतु आगे नहीं आएंगे, बल्कि हमें ही इनकी खोज करनी होगी. सामान्य तौर पर यह सबसे गरीब परिवार मलिन बस्तियों और झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले हो सकते हैं. योजना का लाभ पहुंचाने हेतु हमें स्वयं उनके पास जाना होगा.

यह भी पढ़े -   किसानों के लिए खुशखबरी हरियाणा सरकार जल्द देने वाली है ट्यूबवेल कनेक्शन

परिवार पहचान पत्र के सर्वे से होगी गरीब परिवारों की पहचान

मुख्यमंत्री मनोहर मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि जो लोग पहले से ही रोजगार कर रहे हैं, हम उन्हें नहीं छेड़ेंगे, बल्की 1 लाख परिवारों की आमदनी नए कामों को ढूंढ कर बढ़ाएंगे. हमारा उद्देश्य सभी लोगों को काम प्रदान करना है. परिवार पहचान पत्र के सर्वे के जरिए सबसे गरीब परिवारों की पहचान होगी. लोकल कमेटियों द्वारा इस सर्वे को करवाया जाएगा. यह सर्वे जिले में अतिरिक्त उपायुक्त की देखरेख में किया जाएगा. एक लाख सबसे गरीब परिवारों की सूची शीघ्र ही तैयार कर ली जाएगी.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में होगी 852 सेवानिवृत्त विशेषज्ञ डाक्टरों की भर्ती, एक दिन का वेतन होगा दस हजार

करवाए जाएंगे कौशल विकास कोर्स

इस दौरान मनोहर लाल खट्टर ने विश्वकर्मा कौशल विकास विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ राज नेहरू को अन्य कारणों से पिछड़े व कम पढ़े लिखे लोगों के लिए रोजगार उपलब्ध करवाने के लिए जरूरी कोर्स तैयार करने के लिए कहा है. इन गरीब परिवारों की महिलाओं को, योग्य युवाओं को और अन्य को कौशल विकास योजना के अंतर्गत कोर्स करवा कर आमदनी बढ़ाने का प्रयास किया जाएगा.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!