सोफा कवर मार्केट मे चीन के स्वैड का है कब्जा, जानिये इसकी खासियत

पानीपत । होटल हो या घर सभी में सोफा एक जरूरत बन गया है. बता दे कि बाजार में ₹10 हजार से लेकर ₹2लाख तक के सोफे उपलब्ध है. करोड़ों रुपए की लागत से बनने वाले घरों की शोभा बिना सोफे के नहीं बढ़ती. बाजारों में लकड़ी के सोफे से लेकर रेक्सीन लगे सोफे बिक रहे हैं. बता दें कि बाजारों में 3 -4- 5 -6 सीटर सोफा की धूम है. पानीपत में हर साल करीब दो हजार करोड का अकेले सोफे का कारोबार होता है.

यह भी पढ़े -   रोहतक के शिक्षक ने लड़ी 5 साल तक ₹5 के लिए लड़ाई, आखिरकार मिला न्याय जाने क्या था मामला

panipat

पानीपत से देश के कोने कोने मे भेजे जाते है सोफा कवर

सोफा मे लगने वाला कपड़ा पावर लूम सहित शटललैस पर बनता है. बता दे कि पूरे देश के कोने कोने में पानीपत से सोफा कवर भेजे जाते हैं. दीपावली के साथ-साथ वैवाहिक सीजन में भी सोफो की काफी मांग होती है. लड़की की शादी में फर्नीचर देने का रिवाज है. पानीपत के अलावा मुंबई में सोफा कवर बनता है, लेकिन वह सोफा कवर भी पानीपत आकर ही बिकता है. सोफा कवर के साथ-साथ एसेसरी मार्केट भी चीन पर निर्भर है.

यह भी पढ़े -   दिल्ली में बंद हुआ पेट्रोल और डीजल कमर्शियल वाहनों का प्रवेश, केवल यही वाहन कर पाएंगे एंट्री

चीन में बना सोफे कवर का कपड़ा अधिक पसंद किया जाता है. बता दें कि चीन के स्वेड की सॉफ्टनेस अभी तक पानीपत में नहीं बन पाई है. महंगी क्वालिटी का कपड़ा चीन से मंगाया जाता है. वही सोफा कवर कपड़ा व्यापारी रूपल नरूला ने बताया कि पानीपत से पूरे देश में सोफा कवर के कपड़े व एसेसरी जाती है. पानीपत सबसे अधिक सोफा कवर का ही काम करता है, इस मामले में हम चीन को टक्कर नहीं दे पा रहे हैं. उन्होंने बताया कि चीन से मंगवाए गए कपड़े पर वैल्यू एडिशन का काम करके हम बेचते हैं. सोफा कवर में लगने वाला कपड़ा ₹40 से लेकर 3000 मीटर तक बिक रहा है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!