पानीपत की बेटी ने पहली बार में ही कुश्ती चैंपियनशिप में जीता गोल्ड, चौतरफा हो रही तारीफ

पानीपत | हरियाणा में पानीपत जिले के पट्टीकल्याणा के कामगार सतीश पांचाल की 17 वर्षीय बेटी कोमल पांचाल ने पहली बार इंटर कॉलेज कुश्ती चैंपियनशिप में खेली और 50 किग्रा में स्वर्ण पदक जीता. उन्होंने तीन पहलवानों को हराया. यह प्रतियोगिता बुधवार को कुरुक्षेत्र में हुई. चार दिनों में अपना दूसरा पदक जीता है. उन्होंने हरिद्वार में आयोजित सीनियर राष्ट्रीय कुश्ती चैंपियनशिप में रजत पदक जीता था. इससे पहले कोमल राज्य और राष्ट्रीय कुश्ती प्रतियोगिताओं में 20 से अधिक पदक जीत चुकी हैं, जिसमें पांच मेडल अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं के हैं.

komal panchal

जीए कॉलेज, चुलकाना रोड, समालखा की बीए प्रथम वर्ष की छात्रा कोमल ने बताया कि पहली बार इंटर कॉलेज कुश्ती प्रतियोगिता में खेलना अच्छा अनुभव रहा. मेडल जीतकर खुशी हुई. ऑल इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स जनवरी 2023 में पुणे में होने है, जिसमें वह गोल्ड मेडल जीतने की कोशिश करेंगी.

कुश्ती कोच को दिया जीत का श्रेय

कोमल ने अपनी सफलता का श्रेय निजी कुश्ती कोच विनोद कुमार, पिता सतीश पांचाल और माता कुसुम को दिया है. पट्टीकल्याण गांव के बाबा ज्ञानी राम अखाड़ा व बाबा मलखान खेल समिति के प्रधान मांगे राम चौककर ने कहा कि कोमल ने गांव और जिले का नाम रोशन किया है.

यह भी पढ़े -   Dhan Rate: बासमती धान का भाव रिकॉर्ड स्तर पर, किसानों में खुशी की लहर

कुश्ती कोच विनोद कुमार ने बताया कि कोमल नियमित अभ्यास करती हैं. प्रत्येक शॉट का 25 से अधिक बार अभ्यास करें. जूनियर होते हुए भी वह सीनियर पहलवानों को मात दे रही हैं. कोमल की तकनीक में सुधार किया गया है. उन्हें वरिष्ठ पहलवानों के वीडियो दिखाए जाते हैं ताकि वे उन पहलवानों की कमजोरी और ताकत का अंदाजा लगा सके. कोमल रोजाना पांच से छह घंटे अभ्यास कर रही हैं.

यह भी पढ़े -   Dhan Rate: बासमती धान का भाव रिकॉर्ड स्तर पर, किसानों में खुशी की लहर

कोमल की प्रेरणा से छोटी बहन भी जीत रही पदक

प्रीति ने बताया कि बड़ी बहन कोमल उनकी आदर्श हैं. अपनी बहन से प्रेरित होकर उन्होंने कुश्ती के गुर सीखे. उन्होंने खेलो इंडिया जूनियर नेशनल रेसलिंग चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल भी जीता है. उनका लक्ष्य एशियाई खेलों और विश्व जूनियर चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतना है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!