रोहतक पीजीआई में अचानक कम हुआ आक्सीजन प्रेशर, टला बड़ा हादसा

रोहतक । रोहतक पीजीआई के ट्रामा सेंटर में मंगलवार को बड़ा हादसा होने से बच गया. जिन मरीजों को आक्सीजन लगाईं गई थी, अचानक आक्सीजन पाइपों में फ्लो कम होने से आक्सीजन पूरी मात्रा में न मिलने से परेशानी होने लगी. डाक्टरों ने मामले की गंभीरता को देखते हुए तुरंत नए आक्सीजन सिलेंडर लगवाएं. इसके बाद कई लोगों की जान में जान आई.

यह भी पढ़े -    लॉकडाउन में बाहर घूमने वालों की अब नहीं खैर, सख्ती से निपटने के आदेश जारी

दरअसल हुआ यूं कि ट्रामा सेंटर में अचानक मरीजों की संख्या बढ़ गई और आक्सीजन के सभी आउटलेट खोल दिए गए. इसका असर ये हुआ कि आक्सीजन का प्रेशर कम हो गया. मरीजों को जितनी मात्रा में आक्सीजन मिल रही थी, उतनी नहीं मिल पाईं. इसका पता लगते ही ट्रामा सेंटर में हड़कंप मच गया.

यह भी पढ़े -   BHIM App नहीं चलने पर कस्टमर केयर पर की थी कॉल, लगी 3 लाख 40 हजार रुपए की चपत

rohtak PGI

ट्रामा सेंटर संभाल रहे डॉ संदीप तुरंत आक्सीजन सिलेंडर रुम में पहुंचे और सहयोगियों की मदद से नए सिलेंडर से पाइप लाइन को जोड़ा गया. डाक्टरों का कहना था कि समय रहते सिलेंडर नहीं लगाएं जातें तो बड़ी घटना हो सकती थी. डॉ संदीप ने बताया कि हमारे पास ट्रामा सेंटर में 400 आक्सीजन सिलेंडर रिजर्व रखें हुए थे.

यह भी पढ़े -   कोरोना के नाम पर अस्पताल दे रहे गलत जानकारी, ऑडिट टीम के निरीक्षण में हुआ बड़ा खुलासा

सभी बेड पर आक्सीजन सप्लाई

कोरोना के बढ़ते मामलों की संख्या को देखते हुए मनोरोग विभाग कोविड अस्पताल में 70 बेड की व्यवस्था की गई है. जिसमें सभी बेड पर आक्सीजन सप्लाई उपलब्ध है. यदि जरूरत पड़ी तो इसके बाद लाला श्याम लाल बिल्डिंग को भी कोविड 19 अस्पताल बना दिया जाएगा. : डॉ पुष्पा दहिया, चिकित्सा अधीक्षक, पीजीआईएमएस

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!