यमुनानगर में आम की बड़ी संख्या में होती है पैदावार, विदेशों में भी है मशहूर

यमुनानगर | बारिश और आंधी जैसी प्राकृतिक आपदाओं के बावजूद यमुनानगर का आम खास रहा है. इस बार बंपर पैदावार 32500 मीट्रिक टन होने की उम्मीद है. अगर क्षेत्रफल की बात करें तो यह लगभग 15 हजार एकड़ है, जो राज्य के अन्य जिलों की तुलना में सबसे ज्यादा है.

mango

सबसे ज्यादा पसंद की जाने वाली किस्में चौसा, दशहरी और लंगड़ा यहां की खास पहचान हैं. यही कारण है कि पिंजौर में बागवानी विभाग द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय मैंगों मेले में इस जगह के धाक बने रहते हैं. दो साल बाद 8 से 10 जुलाई तक लगने वाले आम मेले के लिए उत्पादक किसान तैयार हैं. विभागीय अधिकारियों के अनुसार इसमें बेहतर उत्पादन और अच्छी गुणवत्ता वाले आम उत्पादक भाग लेंगे.

अच्छी कीमत मिलने से बागवानी खुश

बागवान ताहिर, गुलफाम और मंगत राम का कहना है कि भौर में तेज आंधी आई झमाझम बारिश भी हुई. हालांकि इस दौरान उन्हें काफी कुछ सहना पड़ा. लेकिन समय अनुकूल था. इसके बाद ज्यादा नुकसान नहीं हुआ. अच्छी उपज के अलावा इस बार फसल भी स्वस्थ है. बाजार में भाव भी अच्छे हैं. स्थानीय मंडियों के साथ-साथ दिल्ली और चंडीगढ़ में भी सप्लाई की जा रही है. उन्होंने बताया कि वह पिछले 8-10 साल से अनुबंध पर बाग लगाते हैं. इन दिनों सीजन पीक पर है. बारिश होने पर आम की मिठास भी बढ़ गई है और आम अधिक मात्रा में पक रहा है.

यह भी पढ़े -   Raksha Bandhan Special: अबकी बार रक्षाबंधन पर भद्रा का साया, इस वजह से भद्राकाल में नहीं बांधा जाता रक्षासूत्र

यहां उगाई जाने वाली बेहतर किस्में

चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय, हिसार द्वारा बूड़िया में संचालित क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र में 22 एकड़ का बगीचा है. इसमें दशहरी, रामकेला, आम्रपाली, मल्लिका और अन्य किस्में हैं. आम के साथ-साथ लीची, लौकी और नाशपाती की भी फसल होती है. ज्यादातर फोकस कॉमन पर रहता है. इसके अलावा किसानों ने बड़े पैमाने पर अपने बाग भी लगाए हैं. छछरौली और खिजराबाद क्षेत्रों में आम के बागों की संख्या अधिक है. वैसे तो आम के बाग अंबाला और पंचकूला में भी हैं, लेकिन यमुनानगर में यह क्षेत्र ज्यादा है. अनुसंधान केंद्र में बेहतर किस्में तैयार कर किसानों तक पहुंचाई जा रही हैं. इस बार आम की विशेष किस्में पूसा, अरुणिमा, पूसा-सूर्य, पूसा श्रेष्ठ, पूसा पीतांबर और पूसा ललिता तैयार की गई हैं. ये रंगीन किस्में हैं.फल लगना भी दो साल बाद शुरू होता है.

यह भी पढ़े -   Best Career Options: 12वीं के बाद छात्र करें ये 5 प्रोफेशनल कोर्स, मिलेगी बेहतर नौकरी

किया जा रहा है प्रोत्साहित

जिला उद्यान अधिकारी डॉ. कृष्ण कुमार के अनुसार आम उत्पादन में यमुनानगर प्रदेश में प्रथम स्थान पर है. किसानों में खासा रुझान है. बाग लगाने के लिए सरकार द्वारा विशेष अनुदान दिया जाता है. आम के साथ-साथ अमरूद, नींबू, बेर, आड़ू, आलू बुखारा, खजूर, ड्रैगन फ्रूट और अन्य फलों के बाग लगाने के लिए 32 हजार 500 से एक लाख 40 हजार रुपये तक का अनुदान दिया जाता है. यदि कोई किसान धान के खेत को बाग में परिवर्तित करता है तो उसे सात हजार रुपये का अतिरिक्त प्रोत्साहन दिया जाता है. इस बार आम स्वस्थ है और उपज भी बेहतर है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!