रोड़वेज क्लर्क ने विभाग को लगाया 62 लाख का चूना, ऑडिट टीम ने दबोचा

यमुनानगर । यमुनानगर रोड़वेज विभाग में एक क्लर्क द्वारा विभाग को 62 लाख रुपए का चूना लगाने का मामला सामने आया है. चंडीगढ़ से आई ऑडिट टीम की जांच के दौरान यह घोटाला निकलकर सामने आया, जिसके बाद रोड़वेज जीएम ने क्लर्क के खिलाफ केस दर्ज करवाया है. रोड़वेज जीएम आफिस के कुछ कर्मी बताते हैं कि दविन्द्र पूरे काम को संभालता था.

यह भी पढ़े -   नशेड़ी युवकों ने गर्भवती महिला के पेट पर मारी ईट, परिजन लगाते रहे अस्पताल व पुलिस के चक्कर

Haryana Roadways Bus

जीएम रोड़वेज ने बताया कि आडिट में तीन साल के रिकॉर्ड में गड़बड़ी मिली है. आरोपी कर्मचारी 3 साल की नीलामी का रिकॉर्ड नहीं दे पाया. आडिट में वह 62 लाख रुपए का रिकॉर्ड पेश नहीं कर पाया. जिस पर जीएम लेखराज की शिक़ायत पर छछरौली के जोगियान मोहल्ला निवासी रोड़वेज के लिपिक दविन्द्र पाल सिंह पर धारा -420 और 409 में केस दर्ज किया है.

यह भी पढ़े -   पहली पत्नी के रहते हुए पति रचा रहा था दूसरी शादी, तभी पहुंच गई पुलिस और फिर...

उन्होंने शिकायत में बताया कि महालेखाकार आफिस चंडीगढ़ से आडिट टीम ने साल 2015 से 2020 और मार्च माह 2021 तक का आडिट किया. इसमें लिपिक दविन्द्र पाल सिंह रोडवेज बस स्टैंड के बूथ -दुकानों और साइकिल स्टैंड के किराए व जीएसटी जमा करवाएं जाने से संबंधित करीब 62.06 लाख का रिकॉर्ड पेश नहीं कर पाया.

यह भी पढ़े -   ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर जा रही सेना की गाड़ी को ट्रक ने मारी टक्कर, एक जवान शहीद

रोड़वेज की ओर से रादौर बस स्टैंड व जगाधरी बस स्टैंड पर पार्किंग स्थल का ठेका दिया गया था. फ़रवरी 2020 में टेंडर प्रक्रिया कैंसिल कर दी गई थी ,लेकिन फरवरी 2021 तक ठेकेदार पार्किंग चलाता रहा. इसमें भी घोटाला हुआ है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!