CBSE बोर्ड ने लिया बड़ा फैसला, अगले साल से वापस लौटेगा पैटर्न सिस्टम

नई दिल्ली । केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने अगले शैक्षणिक सत्र से फिर से पुराने पैटर्न से परीक्षा आयोजित करने का फैसला लिया है. इसका मतलब है कि 10 वीं और 12 वीं की बोर्ड परीक्षाओं को दो टर्म में आयोजित करने की बजाय, एक बार फिर से पहले की तरह एक बार ही आयोजित की जाएगी. बोर्ड ने बताया है कि परीक्षाएं बोर्ड द्वारा संशोधित 30% घटे हुए पाठ्यक्रम पर ही आधारित होगी.

यह भी पढ़े -   अब गर्मियों की छुट्टियों में मस्ती के साथ पढ़ाई भी करेंगे छात्र, जानें क्या है सरकार की योजना

CBSE

हालांकि बोर्ड के इस फैसले से दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया असंतुष्ट नजर आए. उन्होंने कहा कि साल के आखिर की एक परीक्षा हाई- स्टेक परीक्षा नहीं होनी चाहिए. शिक्षा मंत्री ने कहा कि अभी जो सिस्टम है, उसके मुताबिक साल में दो बार इवैल्यूएशन होगा और उसी आधार पर फाइनल रिजल्ट घोषित होगा लेकिन अगले साल से सीबीएसई बोर्ड उसको वापस ले रहा है.

बता दें कि शैक्षणिक सत्र 2021-22 के लिए सीबीएसई बोर्ड द्वारा परीक्षाएं दो टर्म में आयोजित की गई थी. कोविड-19 की दूसरी लहर की वजह से शैक्षणिक सत्र 2020-21 की बोर्ड परीक्षाएं रद्द होने के बाद बोर्ड द्वारा यह निर्णय लिया गया था. शैक्षणिक सत्र 2021-22 की टर्म-1 बोर्ड परीक्षा पिछले साल नवंबर- दिसंबर में आयोजित की गई थी जबकि टर्म-2 परीक्षाएं 26 अप्रैल से शुरू हो रही है.

यह भी पढ़े -   अब गर्मियों की छुट्टियों में मस्ती के साथ पढ़ाई भी करेंगे छात्र, जानें क्या है सरकार की योजना

बोर्ड की ओर से जानकारी निकलकर सामने आ रही है कि स्कूलों द्वारा प्राप्त अनुमोदन के आधार पर यह फैसला लिया गया है. राष्ट्रीय शिक्षा नीति का प्रस्ताव है कि सभी स्टूडेंट्स को एक शैक्षणिक सत्र में दो मौकों पर बोर्ड परीक्षा देने की अनुमति दी जाए. एक मुख्य परीक्षा और एक सुधार के लिए इम्प्रूवमेंट परीक्षा.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!