हरियाणा में सस्ती हुई बिजली, उपभोक्ताओं को मिलेगी प्रति माह 100 करोड़ रुपये की राहत

चंडीगढ़ । हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने प्रदेश में बिजली की रेट घटा दी है. सरकार ने बिजली 37 पैसे प्रति यूनिट सस्ती कर दी है. सरकारी प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में बेहतर योजना के कारण डिस्कॉम ने वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 46 पैसे प्रति यूनिट की औसत बिजली खरीद लागत में पर्याप्त कमी हासिल की है. यह HERC द्वारा की गई FSA गणना में भी परिलक्षित हुआ है. जहाँ FSA नकारात्मक है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा: ITI की इन 27 ट्रेड में एडमिशन लेने पर छात्राओं को मिलेंगे 500 रुपए हर महीने, देखें जानकारी

Electricity Board

लागत में कमी के इस लाभ को आगे उपभोक्ताओं को प्रदान करने के लिए विशेष रूप से इस कोरोना महामारी के समय के दौरान हरियाणा सरकार ने अब से उपभोक्ताओं के लिए किए जा रहे 37 पैसे FSA को माफ़ करने का निर्णय किया है. इस वजह से अब बिजली उपभोक्ताओं को लगभग 100 करोड़ रुपये प्रति माह की राहत मिलेगी. दरअसल कृषि उपभोक्ताओं के संबंध में FSA का बोझ पहले से ही राज्य सरकार द्वारा वहन किया जा रहा है.

यह भी पढ़े -   हाई पावर कमेटी और किसान नेताओं में कल होगी बातचीत, बॉर्डर खाली करने को लेकर बन सकती है सहमति

प्रवक्ता ने बताया कि हरियाणा सरकार ने राज्य के बिजली उपभोक्ताओं को सस्ती दरों पर गुणवत्तापूर्ण बिजली उपलब्ध कराने का प्रयास किया है. कुछ वर्षों में हरियाणा बिजली वितरण कंपनियों का क्रियाकलाप बदला है और उनका उत्कृष्ट प्रदर्शन बिजली मंत्रालय भारत सरकार द्वारा किए गए बिजली डिस्कॉम की एक रेटिंग में भी परिलक्षित होता है. जहाँ हरियाणा गुजरात के बाद दूसरे सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्य के रूप में उभरा है.

बता दें प्रदेश में बिजली 37 पैसे प्रति यूनिट सस्ती हो गयी है. बिजली वितरण कंपनियों द्वारा FSA नहीं लिया जाएगा और बिजली उपभोक्ताओं को तक़रीबन 100 करोड़ रुपये प्रतिमाह की राहत मिलेगी. यह घोषणा हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने की है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!