हरियाणा कैबिनेट की हुई महत्वपूर्ण बैठक, लिए गए बड़े फैसले

चंडीगढ़ । हरियाणा के CM मनोहर लाल खट्टर की अध्यक्षता में बुधवार को चंडीगढ़ में कैबिनेट की अहम बैठक हुई. इस बैठक में खट्टर की अध्यक्षता में कई अहम फैसले लिए गए. करनाल में हुए लाठीचार्ज की स्वतंत्र व पारदर्शी जांच करने के लिए हाईकोर्ट के पूर्व जज सोमनाथ अग्रवाल को जांच आयोग नियुक्त किया गया.

Haryana CM Manohar Lal

यह जांच आयोग जिम्मेदार व्यक्तियों के बारे में पता लगाएगा और करनाल में हुए लाठीचार्ज में एसडीएम आयुष सिन्हा की भूमिका की भी निष्पक्ष जांच करेगा. आयोग आधिकारिक राजपत्र में अधिसूचना के प्रकाशन की तिथि से एक मास की अवधि के भीतर जांच पूरी करके राज्य सरकार को रिपोर्ट प्रस्तुत करेगा. किसानों के हितों की रक्षा के प्रति CM मनोहर लाल की प्रतिबद्धता को दोहराते हुए प्रदेश सरकार ने एक विशेष रूप से डिजाइन की गई योजना के तहत अजैविक कारकों के खिलाफ बागवानी किसानों को कवर करने का निर्णय लिया है.

बागवानी किसानों को विभिन्न कारकों के कारण भारी वित्तीय नुकसान उठाना पड़ रहा है जिनमें फसलों में अचानक बीमारी फैलने, कीटों के संक्त्रमण जैसे जैविक कारक और बेमौसम बारिश, ओलावृष्टि, सूखा, पाला, अत्यधिक तापमान जैसे अजैविक कारक भी शामिल हैं. विभाग ने बागवानी फसलों को कवर करने वाली विभिन्न फसल बीमा योजनाओं की जांच की और पाया कि प्राकृतिक आपदाओं और प्रतिकूल मौसम की स्थिति के कारण फसल नुकसान को कवर करने के लिए एक नई योजना की आवश्यकता है.

इस योजना को बागवानी फसल आश्वासन योजना के रूप में रेडी किया गया है और इसका नाम MBBVI रखा गया है. जिसका उद्देश्य किसानों को उच्च जोखिम वाली बागवानी फसलों की खेती के लिए प्रोत्साहित करना है. इस योजना के तहत ओलावृष्टि, पाला, वर्षा, बाढ़, आग आदि जैसे मापदंडों को लिया गया है, जिससे फसल को नुकसान होता है. इसमें कुल 21 सब्जी, फल और मसाला फसलों को कवर किया जाएगा. किसानों को सब्जी एवं मसाला फसलों की 30,000 रुपये और फल फसलों की 40,000 रुपये की बीमा राशि के विरूद्घ केवल 2.5 प्रतिशत यानी क्रमश 750 रुपये और 1000 रुपये ही अदा करते होंगे.

यह भी पढ़े -   पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट का फैसला- नाबालिग को सहमति संबंध में रहने के लिए नहीं दें सकते हैं सुरक्षा

दावा मुआवजा सर्वेक्षण और नुकसान की चार श्रेणियों 25, 50, 75 और 100 प्रतिशत की सीमा पर आधारित होगा. यह योजना वैकल्पिक होगी और पूरे राज्य में लागू होगी. किसानों को मेरी फसल मेरा ब्योरा (MFMB) पोर्टल पर अपनी फसल और क्षेत्र का पंजीकरण करते समय इस योजना का विकल्प चुनना होगा. मौसमवार फसल पंजीकरण की अवधि समय-समय पर निर्धारित एवं अधिसूचित की जाएगी. यह योजना व्यक्तिगत क्षेत्र पर लागू की जाएगी अर्थात फसल हानि का आकलन व्यक्तिगत क्षेत्र स्तर पर किया जाएगा. राज्य सरकार द्वारा 10 करोड़ रुपये का बजट रखा जाएगा और प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (PMFBY) के तहत राज्य और जिला स्तरीय समितियां राज्य एवं जिला स्तर पर निगरानी, समीक्षा और विवादों का समाधान करेंगी.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में अपना घर खरीदने वालों के लिए अच्छी खबर, बढ़ी फ्लैटों के आवेदन की तिथि

बैठक में सहायक अधीक्षक, जेल के रिक्त पद को भरने के लिए पंजाब जेल विभाग राज्य सेवा (श्रेणी-III कार्यकारी), नियम, 1963 के नियम 15 (1) एवं (2) और परिशिष्ट-क में संशोधन करने के जेल विभाग के एक प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान की गई. इन नियमों को अब पंजाब जेल विभाग राज्य सेवा (श्रेणी-III कार्यकारी), हरियाणा संशोधन नियम, 2020 कहा जाएगा.

यह भी पढ़े -   रंजीत मर्डर केस: गुरमीत राम रहीम को उम्र कैद की सजा, 31 लाख का जुर्माना भी लगाया

नियमों में संशोधन करना इसलिए आवश्यक हो गया था क्योंकि सहायक अधीक्षक जेल के रिक्त पदों को भरने के लिए सरकार की नवीनतम हिदायतों अनुसार विभागीय सेवा नियमों मे एक विषय के रूप में हिन्दी या संस्कृत के साथ दसवीं की शैक्षणिक योग्यता को शामिल करना जरूरी था. संशोधन के अनुसार, अब सहायक अधीक्षक जेल के पदों को सीधे भरने के लिए शैक्षणिक योग्यता किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी संकाय में स्नातक या समकक्ष और हिन्दी या संस्कृत के साथ मैट्रिक या उच्चतर शिक्षा होगी.

करनाल में बसताड़ा टोल प्लाजा पर हुए घटनाक्रम की निष्पक्ष और पारदर्शी जांच सुनिश्चित करने के लिए पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति सोमनाथ अग्रवाल (सेवानिवृत्त) को जांच आयोग नियुक्त किया.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!