बड़ी चूक: हरियाणा सीएम काे घेरने की को‍शिश, मुश्किल से सुरक्षा घेरे में निकल गए मनोहर

चंडीगढ़ । विधानसभा परिसर में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की सुरक्षा में बड़ी चूक देखी गई है. विधानसभा के बजट सत्र में भाग लेने के पश्चात हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर अपनी गाड़ी में कैंप ऑफिस जा रहे थे. उसी समय विधानसभा परिसर में पंजाब के शिरोमणि अकाली दल के विधायकों द्वारा उनका घेराव करने का प्रयास किया गया. पंजाब विधानसभा परिसर और हरियाणा विधानसभा परिसर एक ही इमारत में साथ साथ है. मुख्यमंत्री की गाड़ी को विधानसभा की पार्किंग में शिरोमणि अकाली दल के विधायकों द्वारा घेरने की कोशिश की गई. परंतु वह इसमें सफल नहीं हो पाए. सुरक्षा घेरे में मुख्यमंत्री वहां से निकल गए.

यह भी पढ़े -   हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला रोडवेज और प्राइवेट बस सेवा अगले आदेशों तक बंद

cm gerav today

पंजाब के स्पीकर से विधानसभा स्पीकर ने की फोन पर बात, लिखी छुट्टी

अकाली दल के विधायकों ने चंडीगढ़ पुलिस और हरियाणा पुलिस के साथ हुई खींचतान के पश्चात कुछ झंडे दूर से ही हवा में लहराए. हरियाणा विधानसभा के स्पीकर ज्ञान चंद गुप्ता ने इसे मुख्यमंत्री की सुरक्षा में बड़ी चूक माना है और नाराजगी जाहिर की है. इस मामले में विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता ने पंजाब के स्पीकर राणा केपी सिंह से फोन पर कॉल करके नाराजगी जाहिर की है. विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता के मुताबिक इस घटना पर पंजाब के स्पीकर ने अफसोस जाहिर किया है और मेरे जरिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से माफी मांगी है.

यह भी पढ़े -   BHIM App नहीं चलने पर कस्टमर केयर पर की थी कॉल, लगी 3 लाख 40 हजार रुपए की चपत

हरियाणा के डीजीपी से भी हो रहे हैं प्रश्न, कल दोबारा होगी सुरक्षा रिव्यू मीटिंग

विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता के अनुसार भविष्य में इस प्रकार की घटना दोबारा न दोहराई जाए, इसलिए एक चिट्ठी भी पंजाब के स्पीकर को लिखी गई है. हरियाणा विधानसभा के बाहर परिसर में आकर पंजाब के कुछ विधायकों द्वारा कोई भी गलत कार्य करना निहायती अमर्यादित और सुरक्षा में बड़ी चूक का संकेत है. स्पीकर के अनुसार इस प्रकार की घटना की आशंका सुरक्षाकर्मियों को पहले ही हो गई थी.

यह भी पढ़े -   गांवों में होगा सर्वे, कोरोना संक्रमितों को ढूंढकर इलाज कराएगी सरकार

पुलिस अधिकारियों से किए जाएंगे सवाल

उन्होंने कहा कि पहले से खबर होने के बाद भी इस प्रकार की घटना को रोका क्यों नहीं गया? इस संबंध में हरियाणा के डीजीपी मनोज यादव से प्रश्न किए जाएंगे. स्पीकर ने चंडीगढ़ और पंजाब पुलिस के बड़े अधिकारियों से भी इस संबंध में वार्ता करने की बात कही है. 12 मार्च को स्पीकर इस संबंध में तीनों राज्यों की पुलिस अधिकारियों की मीटिंग लेंगे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!