हरियाणा में पहली बार पेट्रोल 100 के पार, कांग्रेस नेता सुरजेवाला ने ट्वीट कर किया विरोध

Casino

चंडीगढ़ । हरियाणा में पहली बार गुरुवार देर रात पेट्रोल का रेट 100 रुपये के पार हो गया है. सिरसा जिले का डबवाली प्रदेश का ऐसा पहला क्षेत्र है, जहाँ पेट्रोल 100 रुपये के पार पहुंचा है. गुरुवार को दिन में यहां पेट्रोल 99.72 रुपये प्रति लीटर था, लेकिन रात को 34 पैसे बढ़ने के बाद रेट 100.6 रुपये प्रति लीटर हो गया.

Webp.net compress image 4

पेट्रोल की बढ़ती कीमतों को लेकर कांग्रेस सरकार के नेता खट्टर सरकार के ऊपर लगातार आरोप लगा रहे हैं. यानी हरियाणा की खट्टर सरकार के ऊपर लगातार सवाल उठ रहे हैं. इसी बीच रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट करते हुए लिखा है, कि “अब पेट्रोल हुआ ₹100 पार, ऐसी रही खट्टर सरकार! क्योंकि हरियाणा में पेट्रोल पर वैट 25%, डीजल पर वैट 16.4%” आगे कांग्रेस नेता सुरजेवाला ने #FuelLoot हैशटैग कर दिया.

वहीं इसी ट्वीट पर एक यूजर ने लिखा “कि देश में सबसे महंगा पेट्रोल राजस्थान में बिकता है, पर यहां की महंगाई महंगाई नहीं. राज्य विकास योजना क्यों?” आगे एक अन्य यूजर ने लिखा “राजस्थान का हालचाल भी बताइए हुजूर, कब तक हुजूरी करेंगे. आगे एक अन्य यूजर ने भाजपा पर तंज कसते हुए लिखा “कि ऐसे ही भाजपा विश्व की सबसे अमीर राजनैतिक पार्टी नहीं है”

यह भी पढ़े -   हरियाणा के कॉलेजों में एडमिशन के लिए शेड्यूल जारी, 12 से 16 अगस्त के बीच होंगे ऑनलाइन आवेदन

बंगाल चुनाव के दौरान बढ़ने की जगह कम हुए रेट

  • वैसे तो पेट्रोल और डीजल के रेट बढ़ते रहे हैं, लेकिन बंगाल चुनाव के दौरान तेल के दामों में बढ़ोतरी की जगह कमी दर्ज की गयी.
  • फरवरी के अंत में बंगाल चुनाव का ऐलान हुआ, तो उस समय पेट्रोल के रेट 89.97 रुपये प्रति लीटर था. इसके बाद से कुछ दिन रेट स्थिर रहे.
  • 29 अप्रैल को अंतिम दौर की वोटिंग हुई, और चुनाव का समापन हुआ. 1 मई तक 75 पैसे कम होने के बाद पेट्रोल का रेट 89.22 रुपये प्रति लीटर था.

चुनाव खत्म होते ही पेट्रोल ने पकड़ी रफ्तार

  • बंगाल चुनाव खत्म होते ही पेट्रोल की रेट ने रफ्तार पकड़ ली. मई में 3.83 रुपये की बढ़ोतरी दर्ज हुई.
  • जून में इस साल के सबसे ज्यादा 4.20 रुपये की बढ़त दर्ज की गई. जुलाई के 10 दिनों में भी 1.69 रुपये रेट बढ़ा दी गयी.
    तेल पर वैट से 18 हज़ार करोड़ की कमाई
  • पिछले साल हरियाणा सरकार ने करीब 51 हज़ार करोड़ रुपए रेवेन्यू सिर्फ टैक्स के जरिये कमाए थे. जिसमें पेट्रोल और डीजल से सरकार को 16 से 18 हज़ार करोड़ रुपये मिले थे. अब पेट्रोल और डीजल के दाम जिस तरह से बढ़ रहे हैं, उसके अनुसार इस साल सरकार पेट्रोल और डीजल से 20 हज़ार करोड़ रुपये तक कमा सकती है.
यह भी पढ़े -   ऐलनाबाद उपचुनाव को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर, की गई यह मांग

सरकार वैट घटाए तो मिलेगी लोगों को राहत

अभी हरियाणा सरकार पेट्रोल पर 25% और डीजल पर 16.4% वैट ले रही है. यानी पेट्रोल पर प्रति लीटर 19 रुपये और डीजल पर 12 रुपये से ज्यादा कमा रही है. सरकार चाहे तो इसे कम करके लोगों को राहत दे सकती है. अगर सरकार इसे आधा भी कम करे, तो पेट्रोल पर करीब 9 रुपये प्रति लीटर की राहत मिल सकती है.

यह भी पढ़े -   सीएम के दौरे पर कांग्रेसी विधायक चिरंजीव राव की एंट्री, राव बोले-हकीकत का आईना दिखाना

बता दें पेट्रोल और डीजल के दाम हरियाणा में ही नहीं, बल्कि पूरे देश में बढ़ रहे हैं. केंद्र सरकार व राज्य सरकारें लगातार पेट्रोल की रेट बढ़ा रही हैं. ऐसे में सरकार को इससे बड़ा मुनाफा हो रहा है. जानकार बताते हैं, कि अगर सरकार चाहे तो पेट्रोल और डीजल के रेट कम भी कर सकती है, लेकिन सरकार मुनाफा कमाने के चक्कर में लगातार दामों में बढ़ोतरी कर रही है. इसी मुद्दे को लेकर खट्टर सरकार के ऊपर विपक्ष लगातार हमलावर है. कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्विट कर पेट्रोल के बढ़ते दामों का विरोध किया है. वहीं खट्टर सरकार कहती है, कि हम लगातार महंगाई को कम कर रहे हैं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!