HBSE : हरियाणा में भी रद्द हो सकती है दसवीं की परीक्षाएं, फैसला आज

चंडीगढ़ | हरियाणा में भी बोर्ड की परीक्षाएं (HBSE) अब सीबीएसई की तर्ज पर होल्ड होंगी. 10वीं की परीक्षाओं को रद्द किया जा सकता है. 12वीं की परीक्षाओं को लेकर फैसला बाद में होने के आसार हैं. इसे लेकर बृहस्पतिवार को प्रदेश के शिक्षा मंत्री कंवरपाल गुर्जर विभाग के आला अधिकारियों व मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के साथ बैठक करेंगे. सीएम की अध्यक्षता में ही बोर्ड परीक्षाओं को लेकर निर्णायक फैसला होगा, CBSE ने इन दोनों परीक्षाओं के लिए बुधवार को फैसला कर दिया. दसवीं की परीक्षाओं को रद्द किया जा चुका है और 12वीं की परीक्षाओं को लेकर फैसला 31 मई के बाद होगा. कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ रहे मामलों को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है.

यह भी पढ़े -   CBSE: दसवीं कक्षा का परिणाम इस दिन होगा घोषित, जाने पास फार्मूला

Haryana Board

हरियाणा में भी कोरोना की रफ्तार बढ़ी हुई है. अब रोजाना औसतन 3500 पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं. भिवानी बोर्ड ऑफ स्कूल एजूकेशन द्वारा बोर्ड परीक्षाओं का शेड्यूल जारी किया जा चुका है. प्रदेश में 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं की डेट शीट जारी हो चुकी है. बोर्ड परीक्षाएं 20 अप्रैल से शुरू होनी थी, लेकिन अब केंद्र सरकार द्वारा सीबीएसई की परीक्षाओं को लेकर लिए गए फैसले के बाद हरियाणा को भी इन परीक्षाओं को रोकना होगा. नौवीं और 11वीं के विद्यार्थियों की वार्षिक परीक्षा पिछले सप्ताह ही खत्म हुई हैं. वहीं, पहली से 8वीं तक की ऑनलाइन परीक्षाएं हो चुकी हैं. बृहस्पतिवार को 8वीं तक के नतीजे भी घोषित होंगे.

यह भी पढ़े -   अब सरकारी स्कूलों में दाखिले के लिए नहीं चाहिए SLC, निजी स्कूलों को झटका

शिक्षा विभाग से जुड़े भरोसेमंद सूत्रों का कहना है कि सीबीएसई पैटर्न पर हरियाणा में भी दसवीं की परीक्षाओं को रद्द किया जा सकता है. ऐसे में इन कक्षाओं के विद्यार्थियों को पुराने अंकों परफोरमेंस के हिसाब से पास किया जा सकता है. हालांकि, सीबीएसई द्वारा इस बाबत उठाए जाने वाले कदम पर भी सरकार की नजर रहेगी.

12वीं की परीक्षाएं ऑनलाइन करवाने के लिए बोर्ड के पास संसाधन नहीं हैं. ऑफलाइन परीक्षाओं का इंतजाम जरूर बोर्ड ने किया हुआ था. भिवानी बोर्ड के चयेरमैन जगबीर सिंह का कहना है कि सीबीएसई के फैसले के बाद अब राज्य सरकार क्या कदम उठाती है, उस पर नजर है. राज्य सरकार द्वारा जो भी निर्देश दिए जाएंगे, उन्हें लागू किया जाएगा. उनका कहना है कि फिलहाल बोर्ड सरकार के फैसले का इंतजार कर रहा है. बोर्ड सचिव राजीव प्रसाद का कहना है कि ऑफलाइन परीक्षाओं के लिए हम तैयार थे, लेकिन ऑनलाइन परीक्षाओं की तैयारियों में समय लगेगा. दरअसल, गांवों में इंटरनेट की भी समस्या है और हर किसी के पास स्मार्ट फोन, टेबलेट व लेपटॉप उपलब्ध नहीं हैं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!