पार्थ मामले में 7 महीने बाद आई रिपोर्ट, डॉक्टरों को दी गई क्लीन चिट

हिसार। हिसार के पार्थ की मौत के मामले में नेगलिजेंस बोर्ड ने चिकित्सकों को क्लीन चिट दे दी है. बता दें कि कैंप चौक स्थित डॉ मान आंखों के अस्पताल में 22 जनवरी को आंखों के भंगेपन के ऑपरेशन के दौरान 7 वर्षीय पार्थ की मौत हो गई थी . इस मामले में नेगलीजेंस बोर्ड ने चिकित्सकों को क्लीन चिट दे दी है. 11 सदस्य चिकित्सा बोर्ड ने इस मामले की फाइनल रिपोर्ट प्रस्तुत की. इसमें मौत का कारण कार्डियक अरेस्ट यानी हृदय गति रुकने को बताया गया.

यह भी पढ़े -   हिसार जिले में मिलें पुराने सिक्के और मिट्टी के बर्तन, पुरातत्व विभाग ने किया निरीक्षण

Doctor Photo

पार्थ मामले में डॉक्टरों को दी गई क्लीन चिट

बता दे कि इस रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र नहीं किया गया कि पार्थ की हृदय गति क्यों रुकी या पार्थ को एनेस्थीसिया की डोज अधिक मात्रा में दी गई या नहीं दी गई. नेगलिजेंस बोर्ड ने रिपोर्ट मे पार्थ के ऑपरेशन करने वाले डॉक्टर मान आंखों के अस्पताल के मालिक डॉ गुरु प्रताप मान और अन्य दो चिकित्सकों द्वारा ऑपरेशन के दौरान किसी भी तरह की लापरवाही बरते जाने से इनकार किया गया. जबकि पार्थ के परिजनों ने ऑपरेशन करने वाले चिकित्सकों के साथ-साथ डॉक्टर मान पर भी लापरवाही बरतने के आरोप लगाए थे. परिजनों ने डॉक्टरों को ही पार्थ की मौत का जिम्मेदार बताया था. बता दें कि शुक्रवार सुबह नेगलिजेंस बोर्ड द्वारा फाइनल रिपोर्ट पेश कर दी गई , जिसके बाद सुबह ही एसपी के आदेशों पर सीएमओ कार्यालय के बाहर और डॉक्टर मान आंखों के अस्पताल के सामने भारी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात रहे.

यह भी पढ़े -   भगवान शिव के मंदिर में रहस्यमई तरीके से गर्म हो रही है धरती, ग्रामीणों की लगी भीड़

सीएमओ ने कहा कि पार्थ स्वजन रोष स्वरूप कोई भी नुकसान ना करें. जिसके तहत एसपी ने सुरक्षा के लिए पुलिसकर्मियों की तैनाती करवाई. बता दे कि इसी साल 22 जनवरी को कैंप चौक स्थित डॉक्टर मान आँखो के अस्पताल में भंगेपन का ऑपरेशन करवाने गए 7 वर्षीय पार्थ की ऑपरेशन के दौरान मौत हो गई थी. इस मामले में सब जनों ने डॉक्टरों पर लापरवाही बरतते हुए एनेस्थीसिया की ओवरडोज देने का आरोप लगाया था.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!