राजनीति की दहलीज़ पर पांव रखने की तैयारी में सपना चौधरी, चिंता में कांग्रेस और भाजपा

हिसार । हरियाणा की सपना चौधरी और उनके पति वीर साहू हरियाणा के ही नहीं जबकि विश्व के लोगों के आँखों के तारे बन गए हैं. सपना चौधरी ने जब शादी की, तो किसी को इसकी भनक तक नहीं लगी. जब दोनों के घर में एक नए मेहमान की एंट्री हुई, तब जाकर पता चला कि सपना और वीर साहू ने आपस में शादी कर ली है. हालांकि इसके पहले भी दोनों के प्रेम संबंधों के बारे में भी किसी को खास जानकारी नहीं थी, यानी दोनों का प्रेम संबंध कभी चर्चा में आया ही नहीं.

Sapna Press Conference

बता दें हो सकता है दोनों के प्रेम संबंधों के बारे में खास लोगों को जानकारी हो, लेकिन आम जनता के सामने कोई भी जानकारी नहीं आई. लेकिन जब सपना चौधरी ने बेटे को जन्म दिया तो उन्होंने खुद ही खुलासा कर दिया, उन्होंने कहा कि कोरोना काल को देखते हुए हमने विवाह के दौरान किसी भी कार्यक्रम का आयोजन नहीं किया. बेटे के जन्मदिन के बाद यह सबको पता चल गया, कि उसकी आंगन में बच्चे की किलकारी गूंज रही है. लेकिन उसका नाम किसी को नहीं पता. अब जाके उसका नाम भी सामने आ चुका है, उनका नाम भारत के महान सम्राट पोरस के नाम से रखा गया है. दोनों पति-पत्नी ने नाम की घोषणा वीडियो क्लिप के ज़रिए की. और उसी वीडियो क्लिप ने भारत की जनता का ही नहीं, जबकि विश्व की जनता का दिल जीत लिया.

यह भी पढ़े -   दिल्ली मेट्रो के येलो लाइन में फ्री वाईफाई सेवा शुरू, यहां देखें फायदा उठाने का सही तरीका

जब बेटा ठुमक-ठुमक चलने लगा

पांच अक्टूबर को उसकी पहली वर्षगांठ पर दोनों की तरफ से जारी उस वीडियो में उनका बच्चा दिखता है, सपना और वीर साहू भी दिखते हैं, पाश्र्व में प्रतिध्वनित होता है-जब जब कोई विशेष आत्मा इस धरती पर आई है, उसने खलबली मचाई है, मुङो यकीन है तू आम नहीं है, तू आम घर में है, लेकिन तू आम नहीं है. दुनिया की नजरें बुरी हैं, इसलिए सरेआम नहीं है. हम तो एक जरिया थे, तू इस माटी का लाल है. तू उस कौम का हिस्सा है जिसने तैमूर से लेकर सिकंदर तक को थामा है, इसलिए मैं तेरा नाम ‘पोरस’ रखता हूं, तेरे जन्मदिन पर पूरे जहान को बधाई है.

यह आवाज वीर साहू की है. वीडियो अपलोड होने के बाद देशभर के दक्षिणपंथी उसे वायरल करने लगे. इसका बड़ा कारण यह था कि करीना कपूर ने अपने बड़े बेटे का नाम तैमूर रखा है और छोटे बेटे का नाम जहांगीर या जेह रखा है. अब भारतीय परंपरा के अनुसार देखा जाए तो करीना कपूर भी हरियाणा की हैं. उनके पति सैफ अली खान हरियाणा (गुरुग्राम) की पटौदी रियासत के नवाब हैं. सपना तो खैर हरियाणा की हैं हीं. सपना और वीर ने अपने बेटे का नाम पोरस रखा और जिस अंदाज में उसे पेश किया, उसके कारण लोगों ने यहां तक कह दिया कि यह करीना कपूर को सालिड जवाब है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा- नहीं बढ़ेगा झा आयोग का कार्यकाल, 31 अक्टूबर से पहले करवानी होगी रिपोर्ट जमा

वीर और सपना की लव स्टोरी

हांसी (हिसार) के रहने वाले वीर साहू सिंगर भी हैं और एक्टर भी, हरियाणा में वह बहुत लोकप्रिय हैं. हिसार के एक जमींदार परिवार के वीर चार साल पहले अपने एलबम रसूख वाला जाट से चर्चा में आए थे और तब से हरियाणवी संगीत जगत में छाए हुए हैं. भले ही किसी को पता न रहा हो, लेकिन वीर और सपना की छोटी सी लवस्टोरी बेटे के जन्म के लगभग चार साल पहले से चल रही थी. इसी बीच 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले कांग्रेस ने सपना को उत्तर प्रदेश की मथुरा लोकसभा सीट से हेमा मालिनी के विरोध में चुनाव लड़ाना चाहा. सपना मान भी गईं.

सपना को कांग्रेस का क्यों नहीं मिला टिकट?

कांग्रेसियों ने दावा किया कि उन्होंने तत्कालीन उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर के सामने कांग्रेस की सदस्यता भी ले ली है, लेकिन कांग्रेस ने वहां से अपने एक अन्य नेता महेश पाठक को चुनाव मैदान में उतार दिया. दूसरी तरफ सपना ने सफाई दी कि उन्होंने कांग्रेस की सदस्यता नहीं ली थी. यद्यपि उत्तर प्रदेश कांग्रेस के नेताओं ने सपना का कांग्रेस सदस्यता फार्म सार्वजनिक कर दिया. कांग्रेस का कहना था कि सपना ने सदस्यता फार्म में अपनी उम्र 23 वर्ष लिखी थी. लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए 25 की उम्र होना आवश्यक है, इसलिए उन्हें टिकट नहीं दिया गया. कांग्रेस जिस समय सपना को लेकर वाद-प्रतिवाद कर रही थी, उस समय दिल्ली से सांसद और भोजपुरी सुपरस्टार मनोज तिवारी ने सपना को भाजपा के साथ आने के लिए मना लिया.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में किसानों की सरकार को चेतावनी, कहां- सब्र का इम्तिहान मत लीजिए

भाजपा प्रत्याक्षियों का किया प्रचार

भले ही सपना ने भाजपा की सदस्यता नहीं ली, लेकिन उन्होंने कई भाजपा प्रत्याशियों का प्रचार किया. तीनों कृषि कानूनों के विरोध में जब आंदोलन शुरू हुआ तो उनके पति वीर साहू भी धरनास्थल पर पहुंचे. आंदोलन को समर्थन दिया. दो बार धरनास्थल से लाइव वीडियो जारी किए, लेकिन बाद में दूर हो गए. वह कोरोना संक्रमण की पहली लहर के चरम का दौर था.
गौरतलब है वीर और सपना अब चर्चा में आए हैं तो भगवा रंग में रंगकर. वीर दिखते भी हैं किसी प्राचीन भारतीय योद्धा की तरह. सो भाजपा के लिए वीर और सपना स्टार कैंपेनर के रूप में नजर आ सकते हैं विधानसभा-लोकसभा में भी जा सकते हैं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!