हरियाणा के इन जिलों में बनेंगे नए एयरपोर्ट, गुरुग्राम को बनाया जाएगा हेली हब

चंडीगढ़ । हरियाणा के सीएम मनोहर लाल ने अपने दिल्ली दौरे के दौरान नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से एक अहम मुलाकात की. इस दौरान दोनों नेताओं के बीच हरियाणा के हिसार एयरपोर्ट का विस्तारीकरण व करनाल में एयरपोर्ट बनाने की संभावना को लेकर विस्तार से चर्चा हुई. मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि 2014 के लोकसभा चुनावों में करनाल में एयरपोर्ट निर्माण बीजेपी के प्रमुख चुनावी वादों में से एक था लेकिन सात साल बीत जाने के बावजूद भी यह वादा पूरा नहीं हो पाया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि करनाल एयरपोर्ट निर्माण में भूमि बाधा बनी हुई है. इसके निर्माण के लिए 67 एकड़ भूमि की जरूरत थी लेकिन अभी तक 38 एकड़ भूमि ही मिल पाई है.

यह भी पढ़े -   मुख्यमंत्री ने की जिला उपायुक्तों के साथ मीटिंग, इन कार्यों के दिए गए निर्देश

FLIGHT AIR INDIA

दिल्ली में हुई इस बैठक में इन दोनों नेताओं के अलावा प्रदेश के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला भी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए शामिल हुए. मीटिंग के दौरान हिसार के बाद करनाल में भी एयरपोर्ट की संभावना को लेकर चर्चा की गई. मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार की कोशिश है कि हिसार के बाद करनाल में भी सिविल एविएशन से संबंधित सुविधाएं बढ़ाई जाएं.

यह भी पढ़े -   हरियाणा के टूरिस्टो का हुड़दंग, मंदिर के पुजारी को धमकाया और की हवाई फायरिंग

इसके अलावा मीटिंग के दौरान गुरुग्राम में हेली हब बनाने का भी फैसला लिया गया, जहां उड़ानों की संख्या बढ़ाने के लिए वेट चार्ज कम किया जाएगा. इसके साथ ही मीटिंग में ड्रोन स्कूल और सेटेलाइट सेंटर बनाने पर भी चर्चा की गई. इसके अलावा इस मीटिंग में प्रदेश में सिविल एविएशन यूनिवर्सिटी बनाने को लेकर भी विचार विमर्श किया गया.

67 एकड़ में बनना है एयरपोर्ट

बैठक के बाद सीएम मनोहर लाल ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ हिसार एयरपोर्ट के विस्तार व करनाल में एयरपोर्ट बनाने की संभावना के साथ एविएशन से संबंधित कई मुद्दों पर खुलकर चर्चा हुई और हमें उम्मीद है कि जल्द ही हरियाणा में इसका प्रभाव भी देखने को मिलेगा.

यह भी पढ़े -   सिंघु बॉर्डर हत्या: मुख्यमंत्री खट्टर ने बुलाई उच्चस्तरीय बैठक, बोले- दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि करनाल में एयरपोर्ट बनाने की योजना लंबे समय से अटकी हुई है. इसके लिए 67 एकड़ भूमि की जरूरत है लेकिन अब तक सरकार व प्रशासन मात्र 38 एकड़ भूमि की खरीद कर पाया है. 29 एकड़ भूमि के मालिकों ने जमीन के भाव कम मिलने को लेकर कोर्ट केस किया हुआ है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!