हांसी ब्रांच नहर में बहकर आए भारी मात्रा में मरे हुए मुर्गे, लोगों में भय का माहौल

सफीदों । शहर के बीचोबीच से बहकर आने वाली हांसी ब्रांच नहर में भारी मात्रा में मरे हुए मुर्गे बहकर आने का मामला सामने आया है. बढ़ते कोरोना संक्रमण के दौर के बीच मरे हुए मुर्गों को नहर में बहता देख लोगों में भय का माहौल बना है. नहर विभाग के एसडीओ ने मामले को लेकर अज्ञात लोगों के खिलाफ पुलिस में मुकदमा दर्ज करवाया है.

BIRDMURGIHEN
प्रातःकालीन भ्रमण के लिए निरंतर लोग नहर पर आते हैं. किसी ने इतनी अधिक संख्या में एक साथ मरे हुए मुर्गों को नहर में बहता देख मामले की सूचना एसडीएम को दीं. एसडीएम ने नहरी विभाग व पशुपालन विभाग के अधिकारियों को जांच के लिए मौके पर भेजा. अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर स्थिति का मुआयना किया और देखा कि नहर के पानी में चारों तरफ मरे हुए मुर्गे तैर रहे थे.

यह भी पढ़े -   राशन डिपो पर मिलेगा जनरल स्टोर का सामान, दुष्यंत चौटाला ने शुरू किया पायलट प्रोजेक्ट

नहरी विभाग के एसडीओ ने पुलिस को दी शिकायत में कहा कि नहर में पानी की सप्लाई 13 मई रात को बंद हो गई थी. हैचरी वाले इस तरह की डेड पोल्ट्री बर्ड बार-बार नहर में डालते रहते हैं , जिससे मानव जीवन के लिए भी खतरें की संभावना बढ़ जाती है. उन्होंने कहा कि नहर का पानी पेयजल के लिए वाटर वर्क्स में भी जाता है और दूषित पानी पीने से लोग बीमार हो सकतें हैं.पुलिस ने एसडीओ की शिक़ायत पर आइपीसी की धारा 277 के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है.
वहीं पशुपालन विभाग के डॉ सुशील रोहिल्ला ने बताया कि उन्हें नहर में मरे हुए मुर्गों की सूचना मिली थी. नहर से मरे हुए मुर्गे को निकालकर सैंपल के लिए हिसार पशु विश्वविद्यालय भेजा है. वहां से जो रिपोर्ट सामने आएगी, उसके आधार पर विभागीय कार्रवाई की जाएगी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!