शरारती तत्वों ने बोर्ड पर बदला भीमराव अंबेडकर पार्क का नाम, गांव में हालात तनावपूर्ण

रेवाड़ी । रेवाड़ी जिलें के टांकड़ी गांव में हालात बेहद तनावपूर्ण बने हुए हैं. बता दें कि गांव में बस स्टैंड के पास दलित बस्ती में कुछ शरारती तत्वों ने भीमराव अंबेडकर पार्क का नाम बदल दिया है जिसके चलते गांव में तनाव का माहौल बना हुआ है. वहीं इस मामले को लेकर गांव के गणमान्य लोगों का कहना है कि कुछ शरारती किस्म के लोग गांव के आपसी भाईचारे को खत्म करना चाहते हैं. घटना से नाराज ग्रामीणों ने बावल के एसडीओ और डीडीपीओ को ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई करने की मांग की है.

यह भी पढ़े -   करनाल के बस स्टैंड पर दो गुटों में हुआ जमीनी विवाद की वजह से झगड़ा, झगड़े में बरसी ईटे

news 23

एसडीएम के नाम सौंपे ज्ञापन में गांव के गणमान्य लोगों ने कहा कि गांव में 36 बिरादरी का भाईचारा लंबे समय से चला आ रहा है लेकिन कुछ शरारती तत्व इस तरह की घटिया हरकत कर गांव में अशांति फैलाना चाहते हैं. इन लोगों ने गांव की दलित बस्ती में बने अम्बेडकर पार्क (जहां बाबा साहेब की मूर्ति भी लगी है) पर बोर्ड लगाकर पार्क का नाम पृथ्वीराज चौहान कर दिया.

इसी तरह गांव के बस स्टैंड का नाम मिटाकर हिंदु सम्राट पृथ्वीराज चौहान बस स्टैंड रख दिया. इन लोगों द्वारा इस तरह का काम करने के लिए प्रशासन की ओर से भी किसी प्रकार की अनुमति नहीं ली गई है. पार्क का नाम बदलें जाने से दलित समुदाय के लोगों में भारी रोष बना हुआ है और वें लगातार दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं.

यह भी पढ़े -   करनाल के बस स्टैंड पर दो गुटों में हुआ जमीनी विवाद की वजह से झगड़ा, झगड़े में बरसी ईटे

वहीं इस मामले को लेकर रविवार को गांव के सरपंच हेमकंवर चौहान और गणमान्य व्यक्तियों ने एक पंचायत बुलाई. पंचायत में सरपंच ने नाम हटवाने के लिए दो दिन की मोहलत मांगी. इसके बाद सरपंच ने इस मामले का जिक्र सीएम विंडो में कार्यरत अपने ससुर दलेल चौहान से किया. इसके बाद दलेल चौहान गांव वालों के साथ ज्ञापन लेकर डीडीपीओ से मुलाकात की. डीडीपीओ ने ग्रामीणों को आश्वासन देते हुए कहा कि जल्द ही एसडीएम के नेतृत्व में इस मामले की जांच शुरू की जाएगी और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!