देश में 100 रुपये तक पहुंचा पेट्रोल, यहां 300 रुपये में बिकता है नहर का पानी

 लोहारू । हरियाणा के अंतिम छोर पर स्थित भिवानी जिले के लोहारू क्षेत्र में पानी का अलग  ही महत्व है. यहां की मिट्टी रेतीली है और सिर्फ नेहरी पानी ही इस की प्यास बुझा सकता है. क्षेत्र में बोतलबंद पानी तो काफी सस्ता है, लेकिन नहरी पानी बेहद महंगा है. लोगों की जेब पर इसका कोई असर नहीं पड़ता, सरकार नाम मात्र का आबियाना लेकर बाकी सारा खर्च खुद वहन करती है.

NAHAR WATER

 बोतलों के पानी से काफी महंगा नेहरी पानी 

राजस्थान सीमा से सटे शिवानी कैनाल उपमंडल की बात करें, तो यहां नहरी पानी, बोतल बंद पानी से प्रति लीटर 10 -15 गुणा महंगा पड़ रहा है. बात करें तो यहां पानी की बंद बोतल ₹20 में मिल जाएगी. लेकिन यहां के गांव में एक लीटर नहरी पानी पहुंचाने की कीमत 200 से ₹300 तक है. हिसार से 61 फीट ऊपर उठाकर पानी सिवानी में पहुंचाया जा रहा है. इसके लिए 8 पंप हाउस विशेष रूप से तैयार किए गए हैं. अधिकतर गांव राजस्थान से एक-  2 किलोमीटर की दूरी पर है. जिसके कारण रेतीली भूमि को सिर्फ सिर्फ पानी की दरकार है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा सरकार ने बड़ी सौगात, अब डोर टू डोर ऑक्सीजन सिलेंडर भरवाने की सुविधा शुरू

सरकार द्वारा इस जमीन की प्यास बुझाने के लिए अनेक कार्य किए गए हैं. इन्ह हिस्सों तक पानी पहुंचाना बहुत महंगा पड़ रहा है. हिसार से सिवानी तक नेहरी पानी ले जाने में करोड़ों रुपए की लागत आती है. जिसमें नई नेहरों, माइनर, वॉटर पार्क, स्टाफ का वेतन, गाड़ियों पर आने वाला खर्च,बिजली खर्च, सड़कों व पुलों इत्यादि का निर्माण आदि शामिल है. राजस्थान के आसपास के गांवों में नहरे पहुंचाने के लिए छोटे पुल व नई सड़कें बनाने का जिम्मा भी सिंचाई विभाग पर है. विभाग द्वारा बड़े पैमाने पर राजस्थान से हो रही नहरी पानी की तस्करी को भी रोका गया है. सीमांत इलाकों में पानी तस्कर टैंकरों को नेहरू से भरकर ले जाते हैं राजस्थान में 2 से ₹3000 में बेचते थे.

यह भी पढ़े -   बड़ी अपडेट: घर में आइसोलेट कोरोना संक्रमित को घर पर ही पहुंचाई जाएगी ऑक्सीजन

 

पानी की तस्करी करने वालों  की जा रही है छापेमारी 

सरकार द्वारा पुरानी नहरों की मरम्मत के साथ ही, नई नहरों, माइनर व वॉटर वर्क्स का निर्माण भी करवाया जा रहा है. अगर यह कार्य पूरा हुआ, तो गर्मी में 300 क्यूसेक पानी खेतों तक पहुंचेगा. अभी रिसाव के कारण पानी की काफी बर्बादी हो चुकी है. मोतीपुरा डिस्ट्रीब्यूटर पर 12 करोड,सिवानी कैनाल पर 20 करोड़, मिठी डिस्ट्रीब्यूटर पर 10 करोड़, खिदनवा माइनर पर एक करोड़, आदि राशि खर्च की जा रही है. राजस्थान के लिए हो रही पानी तस्करी की शिकायत मिलते ही एक विशेष अभियान चलाया गया है सरकार द्वारा संज्ञान लेते हुए, मामला एसडीओ कैनाल सिवनी के थानों व चौकियों में रिपोर्ट दर्ज कराकर में छापे डलवा कर इस पर अंकुश लगाया जा रहा है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!