जज्बा: शादी के 20 साल बाद भी कम नहीं हुआ जुनून, मां-बेटा साथ दें रहें हैं परीक्षा

भिवानी । कहते हैं पढ़ने की कोई उम्र नहीं होती और पढ़ने में कोई शर्म भी नहीं होनी चाहिए. कुछ इसी जज्बे के साथ हरियाणा के भिवानी जिले में मां-बेटा एक साथ एलएलबी की परीक्षा दें रहें हैं. इस कहावत को सार्थक किया है ,शहर की बैंक कॉलोनी निवासी सुनीता सरोहा ने. सुनने में यह भले ही अजीब लगें लेकिन एकदम सच है.

BHIWANI NEWS 2
मां- बेटा एकसाथ दें रहें हैं एलएलबी की परीक्षा

सच्ची निष्ठा से किसी काम को करने का मन बनाया जाएं तो किसी भी मुकाम को हासिल किया जा सकता है. शादी के वक्त तक सुनीता 12 वीं कक्षा तक पढ़ी थी. शादी के बाद घर-परिवार की जिम्मेदारियां संभालने में व्यस्त हो गई. बच्चे बड़े हो गए तो फिर से पढ़ने को दिल करने लगा और महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय से डिस्टेंस एजुकेशन से पिछले साल स्नातक की पढ़ाई पूरी की. इसके बाद एलएलबी में बिट्स महाविद्यालय भिवानी में एडमिशन लिया. अब दोनों मां-बेटा एक साथ एलएलबी की परीक्षा दें रहें हैं.

यह भी पढ़े -   कल हरियाणा में मनाया जाएगा ‘वर्ल्ड कार फ्री डे’, CM खट्टर चलाएंगे साईकिल

बेटा 12 वीं के बाद तो मां स्नातक के बाद कर रही है एलएलबी

बेटा नवीन 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के बाद 5 वर्षीय एलएलबी कोर्स कर रहे हैं तो मां सुनीता स्नातक के बाद 3 वर्षीय एलएलबी कोर्स कर रही है. बेटा जहां पांचवें सेमेस्टर की परीक्षा दें रहा है तो वहीं मां दूसरे सेमेस्टर की परीक्षा दें रहीं हैं.

यह भी पढ़े -   राहत: हरियाणा में बारिश से खराब फसलों की होगी विशेष गिरदावरी, किसानों को मिलेगा मुआवजा

शादी के 20 साल बाद वकालत की राह पर सुनीता

सुनीता ने बताया कि 29 जून 2000 को गोलपुरा निवासी सुनील के साथ उनका विवाह हुआ था. विवाह के पश्चात गृहस्थी और बच्चों के पालन-पोषण की जिम्मेदारी के चलते पढ़ाई से दूर होना पड़ा. शादी के 16 वर्ष बाद उन्होंने एमडीयू से डिस्टेंस एजुकेशन के माध्यम से कला संकाय में स्नातक की पढ़ाई शुरू की और साल 2020 में उनकी स्नातक पूरी हुई. इसके बाद उन्होंने बिट्स लॉ कॉलेज से एलएलबी कोर्स में रेगुलर एडमिशन लिया है. फिलहाल दूसरे सेमेस्टर की परीक्षा दें रहीं हूं.

महिलाओं की आवाज बनना व समाज सेवा मिशन

सुनीता ने कहा कि समाज में महिलाओं पर अत्याचार, उत्पीडन व प्रताड़ना के मामले हर रोज सामने आ रहे हैं. ऐसे में महिलाओं के हक की आवाज उठाने के लिए ही उन्होंने एलएलबी कोर्स करने की ठानी है. वैसे भी मैं और मेरे पति सालों से समाज सेवा के कार्यों से जुड़े हुए हैं. एलएलबी की डिग्री हो जाएगी तो महिलाओं के लिए कानूनी लड़ाई लड़ने में भी सक्षम हो जाउंगी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!