ड्राप आउट सिस्टम के लिए हरियाणा सरकार की योजना, एडमिशन के लिए डाक्यूमेंट्स जरूरी नही

चंडीगढ़ । हरियाणा में कोरोना के कारण बच्चे पढ़ाई से मुंह मोड़ चुके हैं. स्कूलों में दाखिला लेने के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा. जिसके तहत स्कूलों में दाखिला लेने के लिए न तो जन्म प्रमाण पत्र मांगा जाएगा,  ना ही आधार कार्ड और ना ही स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट जैसे कोई अन्य दस्तावेज.   दाखिलो के बाद इन बच्चों के आधार कार्ड बनाने की जिम्मेदारी स्कूल मुखिया और कक्षा अध्यापक की होगी.

यह भी पढ़े -   हरियाणा सरकार ने कर्मचारियों और पेंशनरों को दिया तोहफा, DA 17% से बढ़ाकर 28%

student corona school

बच्चों के एडमिशन के लिए चलाई जाएगी विशेष योजना

सरल केंद्रों में जाकर तमाम औपचारिकताएं पूरी की जाएगी. हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद के स्टेट प्रोजेक्ट डॉ जे गणेशन ने इस संबंध में सभी जिला शिक्षा अधिकारियों,मौलिक शिक्षा अधिकारी और जिला परियोजना समन्वयक सहित अन्य संबंधित अधिकारियों को लिखित आदेश जारी किए. ड्रॉपआउट बच्चों को स्कूलों में दाखिला देने के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा. विशेष अभियान चलाते हुए उन्हें उम्र के अनुसार क्लासो मे दाखिला दिया जाएगा.

हरियाणा प्राइमरी टीचर एसोसिएशन के प्रदेश प्रधान हरिओम राठी व प्रदेश कोषाध्यक्ष चतर सिंह ने सभी अध्यापकों से आहान किया है. कि वे अपने स्कूल में ड्रॉप आउट हुए व नॉन स्टार्टेड बच्चों का बगैर किसी अड़चन के एडमिशन दे . साथ ही सरकार से मांग की है कि बिना आधार कार्ड वाले बच्चों के आधार कार्ड बनवाने के लिए स्कूली स्तर पर कैंप लगाए.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!