पूर्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु के गांव खांडा खेड़ी में फैला कोरोना, ताबड़तोड़ 11 मौतें और 50 से ज्यादा लोग बुखार से पीड़ित

हिसार ।  हरियाणा के पूर्व मंत्री कैप्टन अभिमन्यु का गांव खांडा खेड़ी सुर्खियों में है.कारण है कोरोना वायरस संक्रमण से लगातार होने वाली मौतें. बीते 1 से 6 मई तक लगातार 6 दिन में 11 मौतें इस गांव में हो चुकी हैं. हम बात कर रहे हैं हरियाणा के हिसार जिले के गांव खांडा खेड़ी की. ये कैप्टन अभिमन्यु का गांव है. कोरोना के राक्षस ने इस गाँव में बुजुर्गों के साथ-साथ युवाओं को भी अपना ग्रास बनाया है. इन 6 दिनों में जो मृत्यु हुई हैं इनमें 26 साल का युवा भी है और 80 साल का बुजुर्ग भी शामिल है.

hisar khanda kheri village news

 मौतों से भी भयावह कुछ और भी हो रहा है यहां

कोरोना वायरस संक्रमण से लगातार मौतें पूरे देश और प्रदेश भर में हो रही हैं. यह दुखदाई, पीड़ादाई तो है ही. लेकिन इससे भी ज्यादा पीड़ादायक अज्ञानता साबित हो रही है. जी हां,गांव में अब तक जो मौतें हुई हैं उनका कारण गांव के लोगों द्वारा वायरल बुखार भी बताया जा रहा है. सबसे बड़ी हैरानी और अज्ञानता की बात तो यह सामने आ रही है कि होने वाली मौतों की जांच करवाए बिना ही उनका अंतिम संस्कार कर दिया जा रहा है. जो एक बहुत बड़ी लापरवाही साबित हो सकती है. इतना ही नहीं अभी भी गांव में करीब 50 से ज्यादा लोग ऐसे हैं जो बुखार से पीड़ित हैं. लेकिन उनका इलाज या तो निजी अस्पतालों में हो रहा है या फिर घर पर ही इलाज चल रहा है. जो देखा जाए तो कहीं ना कहीं लापरवाही का ही प्रतीक है.

 ग्रामीणों को किया जा रहा है जागरूक

दूसरी ओर गांव की सरपंच प्रीति शर्मा के अनुसार ग्रामीणों को मास्क का इस्तेमाल करने, शारीरिक दूरी का पालन करने के लिए जागरूक किया जा रहा है इसके अलावा गांव की बैठकों और चौपालों में सामूहिक रूप से हुक्का पीने पर पाबंदी लगा दी गई है. साथ ही साथ लोगों को इकट्ठा होकर ताश खेलने से भी मना किया जा रहा है ताकि संक्रमण की चैन को तोड़ा जा सके. अब जाकर लोग कुछ जागरूक हुए हैं. इसके अलावा लोगों से सैंपल करवाने को लेकर मुनादी भी करवा दी जा चुकी है.

यह भी पढ़े -   कोरोना की तीसरी लहर का बच्चों पर कितना पड़ेगा दुष्प्रभाव, WHO और AIIMS ने किया सर्वे, जानें नतीजे

 ग्रामीणों के लिए जा रहे सैंपल

नारनौल के एसएमओ डॉक्टर यशपाल पाल के अनुसार गांव में बुखार के मरीजों की संख्या में बहुत ज्यादा इजाफा हुआ है इसीलिए कोरोना जांच के लिए सैंपल दिए जा रहे हैं.उन्होंने गांववासियों को सलाह दी कि यदि किसी को बुखार लगता है तो उसी समय अपना सैंपल करवा देना चाहिए ताकि यदि कोरोना के लक्षण पाए जाते हैं तो समय रहते उनका इलाज किया जा सके.लेकिन बहुत बड़ी समस्या यह आ रही है कि ग्रामीण सैंपल देने में रुचि नहीं दिखा रहे हैं.गांव में एमपीएचडब्ल्यू,एएनएम,आशा वर्कर और आंगनबाड़ी वर्कर लोगों के घर घर भी जा रहे हैं और लोगों को सैंपल देने के लिए जागरूक करने का काम भी कर रहे हैं. डॉक्टर यशपाल के अनुसार लोगों को वैक्सीन का टीका लगवाना चाहिए ताकि भविष्य में कोरोना संक्रमण से बचा जा सके.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!