हरियाणा के इस जिले के स्कूल व कॉलेज जाने जाएंगे शहीदों के नाम से, जानिए वजह

जींद | देश की सीमा पर आतंकियों से लड़ते हुए शहीद हुए जवानों का जिला प्रशासन द्वारा सम्मान किया जा रहा है. जिला प्रशासन अब तक जिले के 77 सरकारी स्कूलों, कॉलेजों के नाम शहीदों के नाम पर रखा गया है और अन्य स्कूलों का नाम शहीदों के नाम पर रखने की प्रक्रिया जारी है. शहीदों के परिवारों को भी शिक्षण संस्थानों के नाम पर गर्व हो रहा है और युवा भी उनके बलिदान से प्रेरणा ले रहे हैं.

SCHOOL

जानिए विस्तार से

डीसी नरेश नरवाल पांच महीने पहले जींद जिले के डीसी बने तो उन्होंने सबसे पहले जिला सैनिक बोर्ड से शहीदों के नामों की सूची मांगी. इस सूची के बाद उन्होंने शिक्षा विभाग और पंचायत एवं विकास विभाग के अधिकारियों को सरकारी स्कूलों के नाम पर रखने को कहा. जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी एवं जिला शिक्षा अधिकारी एवं जिला प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी को शहीदों के गांवों में सरकारी विद्यालयों की पूरी जानकारी देने को कहा. ऐसी जानकारी जुटाने के बाद उनके गांवों के सरकारी स्कूलों का नाम शहीदों के नाम पर रखने की कवायद शुरू हो गई.

जींद से शहीद हुए 77 सेना अधिकारी और जवान

जिले में अब तक सेना के 77 अधिकारी और जवान शहीद हो चुके हैं। प्रत्येक सरकारी स्कूल का नाम उन्हीं के नाम पर रखा गया है। उनके पैतृक गांव मंगलपुर में सरकारी स्कूल का नाम मेजर विनय चौधरी के नाम पर रखा गया है, जो जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों से लड़ते हुए देश पर शहीद हुए थे। इससे पहले, मेजर विनय चौधरी के पिता ने अपने बेटे के नाम पर राजकीय कॉलेज का नाम रखने के लिए लगातार प्रयास किए, लेकिन सफलता नहीं मिली.

यह भी पढ़े -   नेताजी के जीवन को समर्पित होगा गणतंत्र दिवस, हरियाणा सरकार ने जारी किया नोटिस

अब तक इनके नाम बदले गए हैं

डीसी नरेश नरवाल ने शहीद मेजर विनय चौधरी के नाम पर अपने पैतृक गांव मंगलपुर के सरकारी स्कूल का नाम रखा है. इसी तरह जींद के सरकारी हाई स्कूल जंक्शन का नाम बधाना गांव के कैप्टन पवन कुमार के नाम पर रखा गया है, जो जम्मू-कश्मीर में आतंकियों से लड़ते हुए देश पर शहीद हुए थे. जींद के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय का नाम जींद के एक अन्य शहीद मेजर राजीव दहिया के नाम पर रखा गया है. इसी तरह गांव झांझ कलां और गांव झांझ खुर्द के सरकारी स्कूल का नाम शहीद राम स्वरूप के नाम पर रखा गया है. इक्कास गांव के सरकारी स्कूल का नाम शहीद सिपाही सूरत सिंह के नाम पर रखा गया है. करेला झामोला के सरकारी स्कूल का नाम शहीद छोटू राम के नाम पर रखा गया है. गांव लोन के सरकारी स्कूल का नाम शहीद रान सिंह के नाम पर रखा गया है.

यह भी पढ़े -   नौकरी करने वालों के लिए खुशखबरी, सरकार दे सकती है ये 3 बड़े तोहफे

जानिए किस जगह बना शहीदों के नाम पर स्कूल

खटकर गांव के सरकारी स्कूल का नाम शहीद रामकला के नाम पर रखा गया है. गांव मुआना के राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय का नाम गांव के शहीद मंशाराम के नाम पर रखा गया है. अलेवा के सरकारी स्कूल का नाम शहीद अर्जुन सिंह के नाम पर रखा गया है. उचाना के शासकीय मॉडल संस्कृति सीनियर सेकेंडरी स्कूल का नाम शहीद अभयराम के नाम पर रखा गया है. बरसोला गांव के राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय का नाम शहीद नफे सिंह के नाम पर रखा गया है. सिवाहा गांव के सरकारी स्कूल का नाम शहीद हवलदार दीवान सिंह के नाम पर रखा गया है और खरकराजी गांव के सरकारी स्कूल का नाम शहीद किताब सिंह के नाम पर रखा गया है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा सरकार ने प्रीति भारद्वाज का बढ़ाया कार्यकाल, जाने विस्तार से

डीसी नरेश नरवाल ने कहा कि शहीदों को सम्मान देने का प्रयास किया जा रहा है. स्कूलों का नाम शहीद के नाम पर रखा जाए तो बच्चों को शहीद के बारे में जानकारी मिलेगी और बच्चों में देशभक्ति को बल मिलेगा. इसके अलावा बच्चों को शहीदों के नाम पर अपने स्कूल का नाम रखने से देश और मातृभूमि की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति देने की प्रेरणा भी मिलेगी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!