अटल पेंशन योजना में अगले महीने होगा ये बड़ा बदलाव, आपके पास कुछ दिन का बचा है समय

नई दिल्ली | अटल पेंशन योजना (APY) में अगले महीने से बड़ा बदलाव होने जा रहा है. इसके मुताबिक 1 अक्टूबर 2022 से इनकम टैक्स देने वाला यानी टैक्स पेयर इस स्कीम में शामिल नहीं हो पाएगा. अभी कोई भी व्यक्ति इस योजना का लाभ उठा सकता है. ऐसे में अगर आप करदाता हैं और इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो आपके पास कुछ ही दिनों का समय है.

pension

पहले से जुड़े लोगों को इस योजना का मिलता रहेगा लाभ

यदि कोई व्यक्ति भले ही वह करदाता हो 1 अक्टूबर 2022 से पहले यानी 30 सितंबर तक इस योजना में शामिल होता है तो उसे इस योजना का लाभ मिलता रहेगा. वहीं, सभी करदाता जो पहले से जुड़े हुए हैं, पहले की तरह चलता रहेगा.

1 हजार से 5 हजार तक मिलती है पेंशन

अटल पेंशन योजना के तहत 60 वर्ष की आयु प्राप्त करने पर हर महीने 1,000 रुपये से 5,000 रुपये की पेंशन मिलती है. ऐसे में आप इस योजना के जरिए अपने बुढ़ापे को आर्थिक सुरक्षा दे सकते हैं.

उम्र के हिसाब से तय होती है पेंशन 

कितनी राशि काटी जाएगी यह इस बात पर निर्भर करेगा कि आपको रिटायरमेंट के बाद कितनी पेंशन चाहिए. 1 से 5 हजार रुपए प्रतिमाह पेंशन पाने के लिए सब्सक्राइबर को 42 से 210 रुपए प्रतिमाह देने होंगे. यह 18 साल की उम्र में योजना लेने पर होगा.

यह भी पढ़े -   यात्रिगण कृप्या ध्यान दें, कोहरे को देखते हुए रेलवे ने 4 ट्रेनों को किया रद्द

वहीं, अगर कोई ग्राहक 40 साल की उम्र में योजना लेता है तो उसे 291 रुपये से लेकर 1,454 रुपये प्रति माह तक का योगदान देना होगा. अभिदाता जितना अधिक अंशदान करेगा और सेवानिवृत्ति के बाद उसे उतनी ही अधिक पेंशन मिलेगी.

सुविधानुसार कर सकते हैं किस्त का भुगतान 

इस योजना के तहत निवेशक मासिक, त्रैमासिक या अर्ध-वार्षिक यानी 6 महीने की अवधि में निवेश कर सकते हैं. योगदान स्वतः डेबिट हो जाएगा अर्थात राशि आपके खाते से स्वतः काट ली जाएगी और आपके पेंशन खाते में जमा कर दी जाएगी.

मृत्यु के बाद नोमनी को मिलेगी पेंशन

सब्सक्राइबर की मृत्यु के बाद पति या पत्नी को समान पेंशन का भुगतान किया जाएगा और ग्राहक और पति या पत्नी दोनों की मृत्यु होने पर 60 वर्ष की आयु तक जमा की गई पेंशन राशि नामांकित व्यक्ति को वापस कर दी जाएगी.

जबकि, 60 वर्ष से पहले ग्राहक की मृत्यु के मामले में, उसका जीवनसाथी APY खाते में योगदान करना जारी रख सकता है. सब्सक्राइब का पति, पत्नी वही पेंशन राशि प्राप्त करने का हकदार होगा जो सब्सक्राइबर को प्राप्त होनी थी. वहीं, अगर वह चाहे तो ऐसा न करके APY खाते में जमा सारा पैसा निकाल सकता है.

ऑनलाइन खोल सकते हैं खाता

इस योजना से जुड़ने वालों की संख्या 4 करोड़ के स्तर को पार कर गई है. पेंशन फंड रेगुलेटर (पीएफआरडीए) के मुताबिक, अटल पेंशन योजना के तहत पिछले वित्त वर्ष यानी वित्त वर्ष 2021-22 में 99 लाख से ज्यादा खाते खोले गए. सभी राष्ट्रीयकृत बैंक APY योजना की पेशकश करते हैं. हम यहां स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में अटल पेंशन योजना की ऑनलाइन खाता खोलने की प्रक्रिया बता रहे हैं.

यह भी पढ़े -   World AIDS Day: समय पर इलाज और अनुशासन से संक्रमित व्यक्ति जी सकता है सामान्य जिंदगी

बैंक में जाकर भी खुलवा सकते हैं खाता

आप किसी भी बैंक में खाता खुलवा सकते हैं. आपको अटल पेंशन योजना का फॉर्म भरना होगा और मांगे गए दस्तावेजों के साथ बैंक शाखा में जमा करना होगा. आवेदन स्वीकृत होने के बाद आपको एक पुष्टिकरण संदेश प्राप्त होगा.

अटल पेंशन योजना से जुड़े सवाल और जवाब

प्रश्न: क्या मैं बिना बचत खाते के एपीवाई खाता खोल सकता हूं?

नहीं, इस योजना के लिए बचत बैंक खाता होना आवश्यक है.

प्रश्न: मासिक योगदान की तारीख कैसे तय की जाती है?

यह पहले निवेश की तारीख के आधार पर तय होता है.

प्रशन: क्या सब्सक्राइबर्स के लिए नॉमिनी होना जरूरी है?

हां, नॉमिनी होना जरूरी है.

प्रश्न: अटल पेंशन योजना के तहत कितने खाते खोले जा सकते हैं?

अटल पेंशन योजना का केवल एक खाता खोलने की अनुमति है.

प्रश्न: यदि मासिक योगदान के लिए खाते में कोई शेष राशि नहीं है तो क्या होगा?

मासिक योगदान करने के लिए आपके खाते में शेष राशि नहीं होने पर जुर्माना लगेगा.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!