हरियाणा सरकार ने दिया स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों को झटका, अब नौकरी में एक बार ही मिलेगा आरक्षण

पंचकूला । हरियाणा सरकार ने स्वतंत्रता सेनानी परिवारों को बड़ा झटका दिया है.अब सेनानियों के आश्रित पोते-पोतियों , नाति-नातिन को सरकारी नौकरियों में एक बार ही आरक्षण का लाभ मिलेगा. एक परिवार के आश्रित दोबारा 2 फीसदी आरक्षण के पात्र नहीं होंगे. प्रदेश सरकार ने इस मामले में सभी विभागों को स्पष्ट कर दिया है.

FotoJet 3

बता दें कि हरियाणा में स्वतंत्रता सेनानी परिवारों के लिए आरक्षण लागू होने के बाद से अब तक पात्रों को न के बराबर ही नौकरियां मिली हैं और न ही पेंशनर्स की पेंशन बढ़ रही है. दो फीसदी आरक्षण में स्थिति यह है कि विज्ञापित पदों पर पहले पूर्व सैनिकों, उनके आश्रितों व दिव्यांगों , फिर स्वतंत्रता सेनानियों के आश्रितों को लाभ का प्रावधान है. इससे सैनानियों की अगली पीढ़ियां नौकरी मिलने से वंचित रह रही है.

10 सेनानी और 399 विधवाएं ही जीवित

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि प्रदेश के 5500 स्वतंत्रता सेनानियों में 2600 आजाद हिन्द फौज के सिपाही शामिल हैं. इनमें से 10 सेनानी व उनकी 399 विधवाएं ही जीवित है. सरकार इन्हें सम्मान स्वरूप 25 हजार रुपए मासिक पेंशन दें रही है. कई वर्षों से यें पेंशन में वृद्धि की मांग कर रहे हैं.

यह भी पढ़े -   कोसली: UPSC जीईओ साइंटिस्ट परीक्षा में हासिल की 23वी रैंक

अब तो हरियाणा सरकार ने संयुक्त पंजाब से चली आ रही हरियाणा स्वतंत्रता सेनानी सम्मान समिति के कार्यालय को भी बंद कर दिया है.जबकि समिति में चेयरमैन, वाइस चेयरमैन व 15 सदस्य होते हैं. समिति चेयरमैन स्वतंत्रता सेनानी ललती राम का कुछ महीने पहले स्वर्गवास हो चुका है. पंजाब, उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड व बिहार में यह समितियां व कार्यालय चल रहे हैं.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में 1600 साल पुरानी पुरातात्विक स्थल के मिले प्रमाण, साथ ही मिले ये अवशेष

स्वतंत्रता सेनानी उत्तराधिकारी संघ के प्रदेश महासचिव सुरेन्द्र जागलान ने कहा कि चंडीगढ़, यूपी, पंजाब व बिहार की तर्ज पर नौकरियों में 2 फीसदी खुला आरक्षण लागू किया जाएं. आज तक किसी भी स्वतंत्रता सेनानी का परिजन नौकरी में आरक्षण का फायदा नहीं उठा पाया है. इसके अलावा सम्मान समिति कार्यालय को भी दोबारा खोला जाएं. इसके अलावा पुरानी अधिसूचना में बदलाव की मांग को पूरा किया जाएं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!