गुरुग्राम, फरीदाबाद सहित हरियाणा में चलेगा विशेष अभियान, घरों व कॉलोनियों के उपर से गुजरते तार होंगे शिफ्ट

पंचकूला । हरियाणा में गुरुग्राम, फरीदाबाद सहित पूरे राज्य में घरों, स्कूलों, कॉलोनियों और तालाबों के उपर से गुजरने वाले बिजली के तारों को शिफ्ट किया जाएगा. राज्य में ऐसी 2539 बिजली लाइनों को चिन्हित किया गया है जो रिहायशी इलाकों से गुजर रही है. इससे यहां हादसा होने की संभावना भी बनी रहती है. हादसों को न्योता देती इन लाइनों की शिफ्टिंग के लिए करीब 100 करोड़ रुपए का बजट रखा गया है.

Bijli Karmi
पूरे प्रदेश में मकानों के उपर से गुजरने वाली लाइनों को हटाने के लिए विशेष अभियान चलाया जाएगा. इसके साथ ही बिजली चोरी और टेंपरिंग में शामिल महकमें के कर्मचारियों पर शिकंजा कसने की तैयारी की जा रही है. बिजली चोरों के साथ कर्मचारियों की साठगांठ तोड़ने के लिए गुरुग्राम में विशेष बैठक बुलाई गई है , जिसमें पूरे प्रदेश के एसडीओ भाग लेंगे.
बिजली मंत्री रणजीत चौटाला ने बताया कि बिजली चोरी में कर्मचारियों की साठगांठ की उन्हें लगातार शिकायतें मिल रही है. जांच के दौरान अगर कोई बिजली कर्मी दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी. एसडीओ की बैठक में बिजली चोरी, मीटरों से छेड़छाड़,खराब व जले हुए मीटरों से लेकर अन्य मुद्दों पर रणनीति तैयार की जाएगी.

यह भी पढ़े -   2046 से पहले जेल से बाहर नही आ सकेगा डेरा प्रमुख राम रहीम, समझे सजा के आंकड़ों का गणित

नए कनेक्शन को लेकर आवेदनों की संख्या में बढ़ोतरी

बिजली मंत्री ने बताया कि बिजली चोरों पर लगातार छापेमारी से महकमे का मुनाफा बढ़ा है. इस कार्यवाही के बाद बड़ी संख्या में बिजली चोरों ने अपने बिजली कनेक्शन जुड़वाए है. छापेमारी के डर से नए कनेक्शनों को लेकर आवेदन करने वालों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है.

यह भी पढ़े -   किसानों की आवाज बुलंद करते हुए राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने केन्द्र सरकार पर साधा निशाना, MSP पर कानून बनाने की मांग

बिजली मंत्री ने कहा कि बिजली उपभोक्ताओं की समस्या के समाधान हेतु वें हमेशा तत्पर रहते हैं. उन्हें खुद भी मोबाइल फोन पर लगातार शिकायतें मिलती रहती है. उपकरणों की कमी को लेकर उन्होंने कहा कि इस दिशा में शहरों में बड़ी मशीनें ख़रीदीं जा रही है. उपमंडल स्तर पर एक मोबाइल ट्रक भी मुहैया कराया जाएगा ताकि कहीं भी समस्या का सामना न करना पड़े.

बरसात से तीन से चार हजार मेगावाट घटी

मानसूनी बारिश के बाद प्रदेश में बिजली की मांग में तीन से चार हजार मेगावाट तक की गिरावट आई है. धान बेल्ट एरिया झज्जर, सोनीपत, करनाल, कुरुक्षेत्र और अंबाला सहित कई अन्य जिलों में अच्छी खासी बारिश हुई है जिसके चलते खेतों में बिजली की मांग घटी है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!