यहाँ पढ़े कौन है सुधा यादव, पार्लियामेंट बोर्ड का सदस्य बनाए जाने के पीछे है यह बड़ा कारण

चंडीगढ़ | भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने बुधवार को नए संसदीय बोर्ड का गठन किया. पार्टी ने हरियाणा से सुधा यादव को बोर्ड में जगह दी है. जबकि पंजाब के इकलाब सिंह लालपुरा को शामिल किया गया है. सुधा यादव हरियाणा के रेवाड़ी की रहने वाली हैं. वर्तमान में वह भाजपा की राष्ट्रीय सचिव हैं. वह लोकसभा की सदस्य भी रह चुकी हैं. सुधा 1999 से 2004 तक 13वीं लोकसभा की सदस्य रहीं. उन्होंने महेंद्रगढ़ लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी के रूप में चुनाव जीता.

Sudha Yadav BJP Haryana

सुधा यादव के पति सुखबीर सिंह यादव सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के डिप्टी कमांडेंट थे. उन्होंने कारगिल युद्ध में सीमा पर पाकिस्तानी घुसपैठियों से लड़ते हुए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया. सुधा यादव पेशे से प्रवक्ता हैं. सुधा ने 1987 में रुड़की विश्वविद्यालय से स्नातक की उपाधि प्राप्त की. जिसे अब आईआईटी रुड़की के नाम से जाना जाता है.

2004 में सुधा यादव को महेंद्रगढ़ लोकसभा सीट से हार का सामना करना पड़ा था. इसके बाद उन्होंने अगला चुनाव 2009 में गुड़गांव लोकसभा क्षेत्र से लड़ा. लेकिन यहां भी कोई सफलता नहीं मिली. 2015 में, सुधा यादव को भाजपा ओबीसी मोर्चा का प्रभारी नियुक्त किया गया था.

यह भी पढ़े -   भ्रष्टाचार को लेकर बीजेपी विधायक ने खोली अपनी ही सरकार की पोल, जड़े गंभीर आरोप

PM मोदी के कहने पर लड़ीं थी चुनाव

1999 में नरेंद्र मोदी हरियाणा के प्रभारी थे. वह नरेंद्र मोदी के कहने पर चुनाव लड़ने के लिए राजी हुई थीं. उन्होंने सुधा से कहा कि जितना तुम्हारे परिवार को तुम्हारी जरूरत है, इस देश को भी तुम्हारी जरूरत है. सुधा बताती हैं कि पति की कुर्बानी के बाद वह समय उनके लिए काफी मुश्किल भरा था. ऐसे में वो चुनाव लड़ने के बारे में सोच भी नहीं सकती थीं. उस दौरान नरेंद्र मोदी से बातचीत के दौरान उनमें ऊर्जा आई और वह चुनाव लड़ने के लिए तैयार हो गईं. नरेंद्र मोदी ने सुधा यादव को उनकी मां के आशीर्वाद के रूप में 11 रुपये दिए. उस समय, नरेंद्र मोदी ने गुरुग्राम में कार्यकर्ता सम्मेलन में एक ऊर्जावान भाषण दिया था.

यह भी पढ़े -   त्यौहारी सीजन में महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, टंकी फुल करवाने से पहले जान लें नया रेट

भाजपा ने कही ये बात

भाजपा ने उनके बारे में कहा है कि सुधा यादव एक स्व-निर्मित राजनीतिक नेता हैं जिनके पति कारगिल में शहीद हो गए थे. संसदीय बोर्ड में उनका शामिल होना दर्शाता है कि पार्टी में महिलाओं और सशस्त्र बलों के कर्मियों के परिवारों के लिए अत्यधिक सम्मान है. यह भाजपा का नया संसदीय बोर्ड है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में पशुपालकों को मिलेगी दूध की ज्यादा कीमत, एक किलो फैट पर बढ़े 30 रुपए

संसदीय बोर्ड में ये नाम

जेपी नड्डा (अध्यक्ष), नरेंद्र मोदी, राजनाथ सिंह, अमित शाह, बीएस येदियुरप्पा, सर्बानंद सोनोवाल, के लक्ष्मण, इकबाल सिंह लालपुरा, सुधा यादव, सत्यनारायण जटिया, बीएल संतोष (सचिव) को संसदीय बोर्ड में शामिल किया गया है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!