गरीबी और जिम्मेदारी ने इस लड़के को बना दिया कलाकार, 4 घंटे बना रहता है स्टेच्यू

सिरसा ।  महज 14 साल के अजय नाम के इस लड़के ने अपनी काबिलियत और मेहनत के दम पर मुफलिसी पर सफलता हासिल की है क्योंकि उसे किसी के आगे हाथ फैलाकर भीख मांगना नागवार गुजरा. तीन साल पहले तक वह बाजार में ढोल बजाकर भीख मांगता तो दुकानदार उस पर फब्तियां कसते थे . वह जिंदगी से उब चुका था . सोशल मीडिया के दौर में सब कुछ स्टेच्यू सा लगने लगा तो उसने खुद को गोल्डन कलर में रंगकर खुद को स्टेच्यू बना लिया. महज तीन महीने में ही उसकी पॉपुलरिटी इतनी बढ़ गई कि डबवाली से लेकर श्रीगंगानगर तक लोग उसे गोल्डन ब्वाय के नाम से जानने लगे. उसे देखने वाले उसके साथ एक सेल्फी लेने के लिए बेताब रहते हैं.

sirsa news 4

लगातार 4 घंटे बना रहता है स्टेच्यू

सेल्फी लेने के बाद लोग लड़के अजय को रुपए दें देते हैं. उसने बताया कि 1000-1100 रुपए आसानी से मिल जाते हैं. वह पैसों के लिए किसी से जबरदस्ती नहीं करता है,जो भी अपनी इच्छानुसार दें उसी में संतुष्ट हो जाता है. इस वजह से वह सभी के दिलों में अपनी जगह बना रहा है.

यह भी पढ़े -   ऐलनाबाद उपचुनाव में जबरदस्त होगा चुनावी रण, दिग्गजों के बीच होगा कांटे का मुकाबला

लड़के अजय ने दावा किया कि वह लगातार चार घंटे तक स्टेच्यू बनकर खड़ा रह सकता है. डबवाली में तीन सूबों हरियाणा, पंजाब और राजस्थान को जोड़ने वाला सिल्वर जुबली चौक गरीबी पर अजय की विजय की गवाही दे रहा है. जिस लड़के का हम जिक्र कर रहे हैं वह परिवार समेत डबवाली के इंदिरा नगर में रहता है. मां की मृत्यु हुएं लंबा अरसा हो चुका है और पिता की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है.

लड़के अजय को स्टेच्यू बनने का चाह सोशल मीडिया पर वायरल हो रही मुंबई के एक स्टेच्यू मैन की वीडियो देखकर हुआ. उसने लगातार बिना हिम्मत हारे स्टेच्यू बनने का अभ्यास शुरू कर दिया. उसकी मेहनत रंग लाई और वह कुछ ही दिनों में स्टेच्यू के रूप में नजर आने लगा और धीरे-धीरे स्टार बन गया.

यह भी पढ़े -   ऐलनाबाद उपचुनाव में जबरदस्त होगा चुनावी रण, दिग्गजों के बीच होगा कांटे का मुकाबला

कपड़ों को गोल्डन कलर में रंगा

लंबे अभ्यास के बाद स्टेच्यू बने अजय ने वेशभूषा को आकर्षित बनाने का नायाब तरीका खोज निकाला. उसने अपने कपड़े व जुतों को गोल्डन कलर में रंग लिया. अब बचा था मुंह और सिर . हाथों में दस्ताने और सिर पर गोल्डन कलर की टोपी पहन ली तथा मुंह को भी रंग दिया. आंखों पर चश्मा पहनकर चिलचिलाती धूप में सिल्वर जुबली चौक पर खड़ा हो जाता है. चौक से गुजरने वाले लोगों को आभास ही नहीं होता है कि असली स्टेच्यू खड़ा हैं या फिर स्टेच्यू बना इंसान.

यह भी पढ़े -   ऐलनाबाद उपचुनाव में जबरदस्त होगा चुनावी रण, दिग्गजों के बीच होगा कांटे का मुकाबला

सुनिए क्या कहता है अजय

लड़का अजय बताता है कि वीडियो देखकर स्टेच्यू बनने का आइडिया दिमाग में आया. मैंने सोचा कि कला ही मुझे गरीबी से मुक्ति दिला सकती है. मैंने लगातार अभ्यास किया. मैं चार घंटे तक लगातार स्टेच्यू बनकर खड़ा रह सकता हूं. लोगों ने मेरी प्रतिभा का सम्मान किया और अपने दिलों में जगह दी. मैं अपने आप को किसी स्टार से कम नहीं मानता क्योंकि जब लोग मेरे साथ सेल्फी लेते हैं तो सुपर स्टार जैसी फिलिंग आती है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!