Weather Update: गर्मी से राहत की खबर, इस साल समय से पहले दस्तक देगा मानसून

चंडीगढ़ | इस साल लोगों के लिए राहत की खबर है. क्योंकि मानसून समय से पहले ही दस्तक देने वाला है.ऐसी जानकारी भारतीय मौसम विभाग ने दी है. यानी कि जितनी गर्मी सहनी से सह लिजिए. मगर समय से पहले मानसून का आना राहत भरे संकेत है.

BARISH

केरल से होती है मानसून की शुरुआत

भारत की मुख्य भूमि पर दक्षिण-पश्चिम मानसून की शुरुआत केरल की मुख्य भूमि से शुरू होती है और यह उन महत्वपूर्ण संकेतों में से एक है. यानि कि गर्म और शुष्क मौसम से बरसात के मौसम में परिवर्तन का वर्णन करने के लिए किया जा सकता है. जैसे-जैसे मानसून उत्तर की ओर बढ़ता है, उन क्षेत्रों में गर्मी के तापमान से राहत मिलने की संभावना बढ़ती जाती है.

दक्षिण-पश्चिम मानसून लगभग 7 दिनों के मानक विचलन के साथ 1 जून को केरल में पहुंच जाता है. 2005 से केरल में मानसून की शुरुआत की तारीख के लिए भारत मौसम विज्ञान विभाग इस उद्देश्य के लिए ± 4 दिनों की मॉडल त्रुटि के साथ सकारात्मक पूर्वानुमान जारी करता है. इन-हाउस विकसित अत्याधुनिक सांख्यिकीय मॉडल का उपयोग किया जाता है

यह भी पढ़े -   हरियाणा: सरकारी कर्मचारियों की हुई बल्ले-बल्ले, महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी के साथ मिलेगा 4 महीने का एरियर

मॉडल 6 में प्रयुक्त पूर्वानुमान

उत्तर-पश्चिम भारत में न्यूनतम तापमान, दक्षिण प्रायद्वीप पर प्री-मानसून/पूर्व-मानसून बारिश की तीव्रता, दक्षिण तीन समुद्रों के ऊपर जावक मौसम फैलाव, महासागर के ऊपर निचला उष्णकटिबंधीय क्षेत्र, ऊपरी भूमध्यरेखीय हिंद महासागर, दक्षिण-पश्चिम प्रशांत में ट्रोमोस्फीयर क्षेत्रीय पिन, और आउटगोइंग लॉन्गिट्यूड रेडिएशन.

पहले होगी मानसून की शुरुआत

इस साल केरल में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून की शुरुआत सामान्य तारीख से पहले होने की है. 27 मई को केरल में मानसून की शुरुआत होने की संभावना है. 2022 के लिए दक्षिण-पश्चिम मानसून की स्थिति और अंडमान सागर में प्रगति भारतीय मानसून क्षेत्र में, दक्षिण अंडमान सागर में प्रारंभिक मानसूनी वर्षा होती है. मानसूनी हवाएँ बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पश्चिम की ओर आगे बढ़ती हैं.

यह भी पढ़े -   हरियाणा: शिक्षा विभाग ने राज्य के स्कूलों के लिए ग्रीष्मकालीन अवकाश का किया ऐलान, इस दिन से शुरू है छुट्टियां

सामान्य रिपोर्टों के अनुसार, दक्षिण-पश्चिम मानसून 22 मई तक अंडमान सागर के ऊपर आगे बढ़ चुका होगा.15 मई 2022 के आसपास बढ़ी हुई क्रॉस इक्वेटोरियल पवन अंडमान सागर का विस्तृत, निकोबार द्वीप समूह के कुछ हिस्सों और बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्व में दक्षिण-पश्चिम मानसून के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल होगा. पिछले आंकड़ों से पता चलता है कि केरल में मानसून की शुरुआत की तारीख और देश में मौसमी मानसून के साथ प्रगति की तारीख का संबंध है.

यह भी पढ़े -   Weather News: मानसून से पहले मौसम में अचानक बदलाव की क्या हैं वजह, IMD ने दी यह जानकारी

सबसे अहम बात यह है कि समय से पहले ही मानसून इस बार आ जाएगा, यानि की लोग गर्मी से राहत मिलने की उम्मीदों को अब बरकरार रख सकते हैं.

कुछ सालों का रिकार्ड

पिछले 17 वर्षों (2005-2021) के दौरान केरल में आईएमडी की मानसून की शुरुआत की तारीख के अनुसार 2015 को छोड़कर सकारात्मक पूर्वानुमान सही साबित हुए हैं. सबसे हाल के 5 वर्षों (2017-2021) के लिए पूर्वानुमान सत्यापन नीचे दी गई तालिका में दिया गया है. या वास्तविक प्रारंभ तिथि अनुमानित प्रारंभ तिथि,
2017 30 मई 30 मई
2018 29 मई 29 मई
2019 8 जून 6 जून
2020 1 जून 5 जून
2021 3 जून 31 मई

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!