राफेल श्रीनगर और लेह लद्दाख के लिए भर रहे हैं उड़ान, निगरानी के लिए अंबाला में डटी फ्रांस की टीम

Casino

अंबाला छावनी | अंबाला एयरबेस पर राफेल फाइटर प्लेन की तैनाती के बाद से ही से सुरक्षा घेरा और बढ़ा दिया गया है. भारत पाकिस्तान सीमा पर तनाव के माहौल के बीच राफेल विमान अंबाला से श्रीनगर और लेह लद्दाख के लिए उड़ान भर रहे हैं. ऐसे में विमानों की निगरानी हेतु फ्रांस की टीम अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पर तैनात हैं.

Rafel Image

अंबाला एयरबेस पर 14 हैंगर का निर्माण पूरा

अंबाला एयरबेस पर तैनात राफेल लड़ाकू विमान से श्रीनगर की दूरी करीब 619 किलोमीटर और लेह लद्दाख की दूरी 427 किलोमीटर है. इसी वजह से राफेल की तैनाती अंबाला एयरबेस पर की गई है. अंबाला एयरबेस पर राफेल विमान के लिए करीब 14 हैंगर का निर्माण कार्य पूरा हो चुका है जबकि अन्य का कार्य प्रगति पर है. फ्रांस की टीम भी तकनीकी मदद के लिए अंबाला एयरबेस पर ही तैनात हैं.

अंबाला से अभ्यास के लिए राफेल फाइटर प्लेन श्रीनगर और लेह लद्दाख क्षेत्र तक कुछ ही मिनटों में पहुंच जाएंगे. अंबाला एयरबेस के नजदीक ही डोमेस्टिक एयरपोर्ट बनाने की योजना पर विचार किया जा रहा था लेकिन जम्मू एयरबेस पर हुएं ड्रोन हमले के बाद यह योजना अधर में लटक सकती हैं.

यह भी पढ़े -   गृहमंत्री विज ने कारण बताओ नोटिस किया जारी, पत्र में कुरुक्षेत्र एसपी रडार पर, जानें क्या है माजरा

अंबाला एयरबेस में राफेल फाइटर प्लेन के अलावा जगुआर की दो स्क्वाड्रन है, इसलिए सुरक्षा की दृष्टि से एयरबेस की जमीन का अंतिम फैसला रक्षा मंत्रालय पर टिका हुआ है. सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार एयरफोर्स अधिकारी भी इस मामले को लेकर रक्षा मंत्रालय तक बातचीत कर एयरपोर्ट व एयरबेस की स्थिति के बारे में अवगत करवा चुके हैं. एयरफोर्स के आसपास फोटो लेना, ड्रोन उड़ाने एवं प्राइवेट व्यक्ति की एंट्री पर पूर्ण रूप से पाबंदी है. लेकिन डोमेस्टिक एयरपोर्ट के निर्माण के बाद सुरक्षा घेरा और मजबूत करना पड़ जाएगा.

यह भी पढ़े -   गृहमंत्री विज ने कारण बताओ नोटिस किया जारी, पत्र में कुरुक्षेत्र एसपी रडार पर, जानें क्या है माजरा

राफेल फाइटर प्लेन को औपचारिक रूप से 10 सितंबर 2020 को अंबाला एयरबेस पर समारोह में शामिल किया गया था. पांच राफेल फाइटर प्लेन फ्रांस से अंबाला कैंट एयरबेस पर लैंड हुए थे.इस समारोह में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सहित फ्रांस से उनकी समकक्ष सहित वायुसेना अध्यक्ष आरकेएस भदौरिया भी शामिल हुए थे.

यह भी पढ़े -   गृहमंत्री विज ने कारण बताओ नोटिस किया जारी, पत्र में कुरुक्षेत्र एसपी रडार पर, जानें क्या है माजरा

1919 में शुरू हुआ था अंबाला एयरबेस

अंबाला एयरबेस साल 1919 में एयर ट्रैफिक कंट्रोल से शुरू हुआ था. इस दौरान डीएच-9 व ब्रिस्टर फाइटर एयरक्राफ्ट ने ऑपरेट किया था. बालाकोट एयर स्ट्राइक में अंबाला केंट एयरफोर्स स्टेशन ने अहम भूमिका निभाई थी.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!