हरियाणा के अंबाला में अनोखा मामला, घुमंतू कुत्ते ने रक्तदान कर बचाईं पालतू कुत्ते की जान

Casino

अंबाला । हरियाणा के अंबाला से एक अनोखी घटना का मामला सामने आया है. यहां एक कुत्ते ने ही दूसरे पालतू कुत्ते की जान बचाने का कार्य किया है. अंबाला में घुमंतू कुत्ते पालतू कुत्तों को रक्तदान कर उनकी जिंदगी बचाने का काम कर रहे हैं. शहर में 20 ऐसे कुत्तों की टीम है, जिन्हें वंदेमातरम दल अपनी देखरेख में रखता है. अब इस तरह के कुत्तों को वंदेमातरम दल ने रक्तदान का सर्टिफिकेट देने की योजना पर भी कार्य शुरू किया है.

यह भी पढ़े -   रेवाड़ी में टोल कर्मचारियों की हड़ताल, 2 महीनों से नहीं मिला वेतन

dog blood donation news

वंदे मातरम दल के संस्थापक भरत सिंह की कोशिशों से एक स्ट्रे डॉग का रक्त एक पालतू कुत्ते को चढ़ाया गया. जिसकी वजह से कुत्ते की जान को बचाया गया. एक ब्रीड पमेरियन पालतू कुत्ते का बीमारी की वजह से नाक के जरिए ख़ून बह गया. इसके बाद कुत्ते में मात्र 3 ग्राम ख़ून रहने के चलते उसकी जान पर बन आई. पशु चिकित्सक ने मालिक को सलाह दी कि जल्द से जल्द किसी अन्य कुत्ते के रक्त का प्रबंध हों जाएं तो कुत्ते की जान बचाई जा सकती है. मालिक ने अपने कुत्ते की जान बचाने के लिए भरत सिंह को फोन कर किसी अन्य कुत्ते के रक्तदान की मदद मांगी. ऐसे में भरत सिंह स्ट्रे डॉग की व्यवस्था कर , उसे निजी अस्पताल लेकर पहुंचे और रक्तदान करवाया. इस तरह पालतू कुत्ते की जान बचाई गई. स्ट्रे डॉग को कमजोरी से बचाने के लिए उचित डाइट दी गई.

बीमारी के कारण होती है खून की कमी

जानकारों के मुताबिक बीमारी की वजह से अक्सर कुत्तों के शरीर में खून की कमी हो जाती है. इस कमी को दूर करने के लिए दूसरे कुत्ते उन्हें रक्तदान करते हैं. ये रक्तदाता गली में घूमने वाले आवारा कुत्तों में से होते हैं,जो रक्तदान से पालतू कुत्तों को नई जिंदगी देने का काम करते हैं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!