Diesel Vs Petrol Car: आज दूर होगा कंफ्यूजन- कौन सी कार रहेगी आपके लिए बढ़िया, जाने डिटेल

नई दिल्ली | लगातार पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोतरी से अब कार खरीदार परेशान हो चुके हैं. इसी वजह से अब वह नए विकल्प तलाशने को मजबूर हो गए हैं. ज्यादा माइलेज की वजह से डीजल कारें हमेशा से ही पहली चॉइस रही है. क्या आपको पता है कि डीजल कार के अपने ही अलग फायदे और नुकसान होते हैं. इसी वजह से बहुत से खरीदार इस बात को लेकर कन्फ्यूजन में रहते हैं कि उन्हें पेट्रोल की गाड़ी खरीदनी चाहिए या डीजल की गाड़ी.

Petrol Diesel Price 2

इसका सही फैसला आपको कई पहलुओं पर निर्भर करता है, इनमें कार की कीमत से लेकर मेंटेनेंस कॉस्ट तक शामिल है. आज की इस खबर में हम आपको कुछ ऐसे पॉइंट्स बताएंगे, जिनके जरिए आप आसानी से फैसला ले पाएंगे कि आपको कौन सी कार खरीदनी चाहिए पेट्रोल की या डीजल की.

कार खरीदते समय इन पांच बातों का रखें ध्यान

कार की कीमत

जब भी हम कार खरीदने का मन बनाते हैं, तो सबसे पहले हमें बजट को ही ध्यान में रखना होता है. इसलिए आपको सबसे पहले देखना है कि कार की डीजल वैरीएट क्या आपके बजट में फिट हो रही है या नहीं. बता दें कि पैट्रोल वैरीएंट के मुकाबले डीजल वेरिएंट की कीमत तकरीबन 1 लाख रूपये ज्यादा होती है.

यह भी पढ़े -   हीरो इस दिन लांच करेगा अपना पहला इलेक्ट्रिक स्कूटर, 25 हजार घंटों में किया तैयार

कार का माइलेज

पैट्रोल वैरीएट के मुकाबले डीजल की गाड़ी में ज्यादा माइलेज मिलता है. पेट्रोल गाड़ी का फायदा होता है कि इसमें आपको बढ़िया शुरुआती पावर मिलती है. वहीं डीजल गाड़ी ऊंचे गियर में बढ़िया परफॉर्म करती है. यदि आपको केवल सिटी में ही कार ड्राइव और छोटी दूरी ही तय करनी है, तो आप पेट्रोल कार ले सकते हैं लंबी दूरी की यात्रा के लिए डीजल कार ही फायदेमंद होती है.

यह भी पढ़े -   हीरो इस दिन लांच करेगा अपना पहला इलेक्ट्रिक स्कूटर, 25 हजार घंटों में किया तैयार

लाइफ साइकिल

पेट्रोल और डीजल दोनों गाड़ियों की लाइफ साइकिल अलग-अलग होती है. पेट्रोल कारों को 15 साल तक और डीजल कारों को सिर्फ 10 साल तक ही इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके बाद या तो डीजल कारों को किसी दूसरे राज्य में ट्रांसफर करवाले नहीं तो उसका रजिस्ट्रेशन कैंसिल कर दिया जाएगा.

यह भी पढ़े -   हीरो इस दिन लांच करेगा अपना पहला इलेक्ट्रिक स्कूटर, 25 हजार घंटों में किया तैयार

मेंटेनेंस कॉस्ट

जैसे पेट्रोल और डीजल कारों की कीमतें अलग-अलग है, ठीक उसी प्रकार इसके मेंटेनेंस कोस्ट भी अलग-अलग है. डीजल कारों की मेंटेनेंस कॉस्ट पेट्रोल कार के मुकाबले ज्यादा होती है. सर्विस और मेंटेनेंस में इसका खर्चा 1000 से 2000 रूपये तक रहता है.

प्रदूषण

दोनों गाड़ियों से प्रदूषण का लेवल भी अलग-अलग है. पेट्रोल की तुलना में डीजल कार पर्यावरण के लिए ज्यादा नुकसानदायक है. पेट्रोल के मुकाबले डीजल कारों से NO2 का उत्सर्जन ज्यादा होता है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!