हरियाणा में जेबीटी पास युवाओं को बड़ा झटका, सीएम बोले- हमें नहीं है जरूरत

चंडीगढ़।  हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हरियाणा सरकार द्वारा प्रदेश में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को वर्ष 2025 तक लागू कर दिया जाएगा. इस विषय में राज्य सरकार ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री को सूचित भी कर दिया है. मुख्यमंत्री आज विधानसभा में कांग्रेस विधायक  गीता भुक्कल द्वारा सरकारी स्कूलों को बंद करने के मामले में उठाए गए मुद्दों पर बोल रहे थे.  उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा दी गई, शिक्षा नीति वर्ष 2030 तक लागू की जानी है. प्रदेश में शिक्षा के बेहतर प्रबंधन को देखते हुए 5  साल पहले ही प्रदेश में लागू कर दी जाएगी.

यह भी पढ़े -   भिवानी जेल में कुक के पद हेतु सीधी भर्ती, केवल इंटरव्यू से मिलेगी नौकरी

Teacher

इंजीनियरिंग की डिमांड घटी, और है डॉक्टरों की आवश्यकता

उन्होंने कहा कि चाहे अध्यापक भर्ती की बात हो या डॉक्टर या इंजीनियर लगाने का मामला हो . इन सबके लिए,  एक लंबी प्लानिंग की आवश्यकता  होती है. एक समय था,  जब इंजीनियर की डिमांड काफी थी, आज उसने काफी कमी आई है. आज के युग में डॉक्टर की काफी आवश्यकता है. पहले की अपेक्षा आज ज्यादा डॉक्टर है. इसलिए अब हम प्रदेश के हर जिले में मेडिकल कॉलेज खोलने पर ध्यान दे रहे हैं. उन्होंने बताया कि जेबीटी अध्यापकों की पद स्वीकृत है. लेकिन उनकी मांग में कहीं ना कहीं कमी आई है. इसका कारण पिछली सरकार की नीतियां भी रही है. जो गेस्ट टीचर भर्ती  कांग्रेस सरकार के समय में हुई थी और वह मामला बाद में सुप्रीम कोर्ट में गया, जिसके कारण भी यह हुआ है.

यह भी पढ़े -   NID Haryana Recruitment 2021: हरियाणा में नॉन- टीचिंग पदों पर निकली बड़ी भर्ती, ऐसे करे आवेदन

सीएम ने दिया जेबीटी युवाओं को बड़ा झटका 

उन्होंने बताया कि हमने पिछले कार्यकाल में गेस्ट टीचर की नौकरियों को बनाए रखने के लिए विधानसभा में एक्ट पास करके उनकी सेवाओं को 58 साल तक सुनिश्चित किया था. इसके साथ ही स्टूडेंट टीचर अनुपात से देश भर में जो 1:30 के नियम है, उसे हमने 1:25 किया है. जब भी इसकी संख्या कम होगी इसे फिर से 1:30 तक ले जाएगे.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!