हरियाणा के एएसआई राजेश कुमार ने किया ऐसा सराहनीय कार्य, पुलिस डीजीपी ने भी की प्रशंसा

चंडीगढ़ | हरियाणा पुलिस के एएसआई राजेश कुमार ने बिछुड़े हुए लोगों को उनके परिवार से मिला कर सराहनीय काम किया है. राजेश कुमार ने बिछुड़े हुए बच्चों, महिलाओं तथा बुजुर्गों को उनके परिवार से मिलवाने के लिए काफी मेहनत की है. राजेश कुमार ने अभी तक 20 राज्यों और तीन देशों के बिछुड़े बच्चों महिलाओं और बुजुर्गों को ढूंढ़कर उनके घरों तक पहुंचाया है.

Police

जानिए विस्तार से

हरियाणा के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) प्रशांत कुमार अग्रवाल ने हरियाणा पुलिस की एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट (एएचटीयू) के एएसआई राजेश कुमार के प्रयासों और समर्पण भाव की सराहना की है. जिसने गत 5 वर्षों में नेक कार्य करते हुए 600 से अधिक लापता लोगों को ढूंढकर दोबारा परिवारों से मिलवाया है. डीजीपी ने यह भी कहा कि राजेश जैसे पुलिस कर्मियों ने अपनी ड्यूटी से परे जाकर लोगों की सेवा करके सक्रिय पुलिसिंग की मिसाल पेश की है. “वर्षों या महीनों के अलगाव के बाद परिवार के एक लापता सदस्य को वापस पाने से ज्यादा उम्मीद क्या हो सकती है. उनकी कहानियां निश्चित रूप से ‘बुक ऑफ होप’ के पाठकों के बीच प्रेरणा और उम्मीद जगाएंगी.”

जानिए क्या किए सराहनीय कार्य

आपको बता दें कि एएसआई राजेश ने अब तक दुनिया भर के 20 राज्यों और तीन देशों से महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों सहित 600 से अधिक लापता लोगों की खोज कर फिर से परिवारों से मिलवाया है. जो किसी न किसी कारण से बिछुड़ गए थे. ऐसे लोगों को वर्षों या महीनों के बाद परिवार के एक लापता सदस्य को वापस पाने से ज्यादा उम्मीद या खुशी क्या हो सकती है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में स्कूल मर्जर मामले पर शिक्षा विभाग ने दिया स्पष्टीकरण, बताई ये वजह

पुस्तक में लिखी गई सराहनीय कहानियां

डीजीपी पीके अग्रवाल ने हरियाणा पुलिस की मानव तस्करी रोधी इकाई (एएचटीयू) के एएसआई राजेश कुमार के प्रयासों और समर्पण की सराहना की है. जिन्होंने पिछले पांच में 20 से अधिक राज्यों और तीन देशों के 600 से अधिक लापता व्यक्तियों को फिर से जोड़ा है. एक राष्ट्रीय स्तर के प्रकाशन ने अपनी नवीनतम पुस्तक में राजेश की पुनर्मिलन की कहानियों को चित्रित किया है. आपको बता दें कि द बेटर इंडिया ने उनके प्रयासों को अपने नवीनतम प्रकाशन ‘बुक आफ होप’ में प्रकाशित किया है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!