हरियाणा के इन जिलों के सभी निजी कार्यालय रहेंगे बंद, होगा ”वर्क फ्रॉम होम”

चंडीगढ़ । हरियाणा में लगाता तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण महामारी के मद्देनजर हरियाणा सरकार ने चंडीगढ़ में स्टेट लेवल मॉनिटरिंग कमेटी की दूसरी मीटिंग की. हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मीटिंग में लिए गए निर्णय के संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि हरियाणा राज्य के सभी गवर्नमेंट ऑफिस में 50% वर्क फ्रॉम होम की प्रोसेस को अपनाया जाएगा. इसके साथ ही सोनीपत, फरीदाबाद और गुड़गांव के प्राइवेट ऑफिस में 100% कार्य वर्क फ्रॉम होम द्वारा किया जाएगा.

cm and dushant

आपको बता दें कि हरियाणा के इन 3 जिलों में कोरोना वायरस संक्रमण ने सबसे ज्यादा कहर बरसाया हुआ है. इन तीन जिलों के अतिरिक्त हिसार व करनाल में भी सख्ती बरतने हेतु बड़े कंटेनमेंट जोन बनाए जाएंगे.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में उपचुनाव को लेकर चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, जाने

हरियाणा को मिला 162 मेट्रिक टन ऑक्सीजन का कोटा

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने मीटिंग के पश्चात पत्रकारों को जानकारी देते हुए कहा कि प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना में हरियाणा सरकार स्थिति को काबू में करने के लिए पूरा प्रयास कर रही है. राज्य में ऑक्सीजन के संकट के प्रश्न पर सीएम ने कहा कि 180 मेट्रिक टन ऑक्सीजन केंद्र सरकार से मांगी गई थी. हरियाणा राज्य को 162 मेट्रिक टन ऑक्सीजन का कोटा मिला है. मुख्यमंत्री ने कहा कि लगातार बढ़ रही ऑकसीजन की मांग के मद्देनजर अगली बार केंद्र सरकार से 200 मेट्रिक टन ऑक्सीजन की मांग की जाएगी. मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आशा जताई है कि केंद्र सरकार द्वारा जर्मनी से मंगवाई जाने वाली ऑक्सीजन बनाने वाले प्लांटों में एक आध Haryana में भी लगाया जाएगा.

यह भी पढ़े -   किसानो द्वारा मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के दौरे का विरोध, पुलिस ने किया गिरफ्तार

जिला उपायुक्तों को धारा 144 लगाने की छूट

सीएम खट्टर ने जानकारी देते हुए कहा कि हरियाणा में कभी भी ऑक्सीजन की कमी नहीं थी, लेकिन इसकी अव्यवस्था की वजह से समस्या खड़ी हो गई. उन्होंने स्पष्ट किया कि फरीदाबाद, गुरुग्राम में फिलहाल लोकडाउन नहीं लगाया जाएगा. उन्होंने कहा कि इस मीटिंग में यह फैसला लिया गया कि हरियाणा के सभी जिला उपायुक्तों को उनके जिले में धारा 144 लागू करने की छूट रहेगी. यदि इसकी आवश्यकता महसूस होती है तो वह धारा 144 लागू कर सकते हैं.

यह भी पढ़े -   हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, मनमानी रोकने के लिए निजी अस्पतालों का प्रबंधन खुद संभालेगी सरकार

50% बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित

मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि औद्योगिक क्षेत्रों में डबल शिफ्ट यानी दिन व रात में कार्य हो सकता है. उन्होंने कहा कि ऑफिस में संक्रमण को रोकने के लिए वर्क फ्रॉम होम की प्रक्रिया को अपनाया जाएगा. खट्टर सरकार ने हरियाणा के सभी प्राइवेट हॉस्पिटल में 50% बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित करने का फैसला लिया है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!