पंचायत चुनावों में BJP अपना सकती है यह रणनीति, आखिरी निर्णय चुनाव समिति की बैठक में

चंडीगढ़ | हरियाणा में पंचायत चुनाव कभी भी पार्टी सिंबल पर नहीं लड़ने वाली भारतीय जनता पार्टी आगे भी इस परम्परा को इसी तरह निभाने के मूड में नजर आ सकती है. संगठन के अधिकतर लोग पंचायत चुनाव पार्टी सिंबल पर लड़ने के पक्ष में नहीं है लेकिन इस पर अंतिम निर्णय बीजेपी चुनाव समिति की होने वाली बैठक में लिया जाएगा.

cm and dushant

अंतिम निर्णय चुनाव समिति की बैठक में

हरियाणा में पंचायत चुनावों को भाईचारे का प्रतीक माना जाता है और ऐसे में बीजेपी इसके अंदर पड़कर किसी तरह का विवाद मोल नहीं लेना चाहेगी. हालांकि नगर निगम, नगर परिषद और नगर पालिका के चुनाव बीजेपी शुरू से ही पार्टी सिंबल पर लड़ती आई है. प्रदेश में 48 निकायों के चुनाव होने हैं और बीजेपी हर जगह पार्टी सिंबल पर प्रत्याशी उतार सकती है. इस पर भी अंतिम निर्णय बीजेपी चुनाव समिति की बैठक में ही लिया जाएगा.

बता दें कि इससे पहले हुए तीन निगमों पंचकूला, अंबाला शहर और सोनीपत के साथ ही रेवाड़ी नगर परिषद व तीन पालिकाओं – सांपला, धारूहेड़ा व उकलाना के चुनाव बीजेपी- जेजेपी गठबंधन ने मिलकर लड़े थे. पंचायत चुनावों में बीजेपी बेशक सीधे अपने उम्मीदवार न खड़े करें लेकिन बीजेपी समर्थित उम्मीदवार चुनाव जरुर लड़ेंगे और पार्टी पर्दे के पीछे रहकर इन उम्मीदवारों का समर्थन कर सकती हैं.

यह भी पढ़े -   हरियाणा सरकार का ऐलान, धान की जगह दूसरी फसल लगाने पर मिलेंगे 7000 रूपए

हरियाणा में अधिकतर पंचायतों में सरपंच और पंचों का फैसला ग्रामीणों की आपसी सहमति से हो जाता है. सर्व सहमति से बनने वाली पंचायतों को विशेष ग्रांट दिए जाने का भी प्रावधान है. हरियाणा बीजेपी अध्यक्ष ओमप्रकाश धनखड़ ने बताया कि चुनाव को लेकर बीजेपी चुनाव समिति की बैठक काफी अहम रहने वाली है जिसमें चुनाव संबंधी फैसले लिए जातें हैं.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!