फिर बढ़ सकती हैं पेट्रोल-डीजल की कीमतें, ये है प्रमुख वजह

नई दिल्ली | ऐसा लगता है कि तेल कंपनियां पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि पर 6 अप्रैल से जो रोक लगी हुई है, उसे फिर से शुरू कर सकती हैं. सरकारी तेल कंपनियों के सूत्रों का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल के भाव के आधार पर अभी उन्हें पेट्रोल पर 10 रुपए और डीजल पर 25 रुपए प्रति लीटर का घाटा झेलना पड़ रहा है.

यह भी पढ़े -   Gold Price Today: सोने- चांदी की कीमतों में आया उछाल, जानिए आज का ताजा भाव

PETROL

ऐसे में इन उत्पादों की खुदरा कीमतों में वृद्धि नहीं की गई तो तेल कंपनियों को भारी आर्थिक नुकसान झेलना पड़ सकता है. ऐसे में केंद्र और राज्य सरकारें मिलकर शुल्कों में कटौती करें, तभी आमजन को राहत संभव है. नही तो जनता पर भारी वृद्धि का एक और बोझ पड़ना तय है.

बता दें कि तेल कंपनियों ने 22 मार्च से लेकर 6 अप्रैल 2022 तक लगातार घरेलू बाजार में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी की थी. इस दौरान पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतों में 10-10 रुपए की बढ़ोतरी हुई थी. अभी राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल का भाव 105.41 रुपए प्रति लीटर तो वहीं डीजल 96.67 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है.

यह भी पढ़े -   हरियाणा: मिड- डे मील बनाने वाले रसोइयों के लिए बड़ी खुशखबरी, शिक्षा विभाग ने दोगुना किया वेतन

आपको बता दें कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में फिर से तेज़ी का रूख देखने को मिल रहा है. सोमवार को इसकी कीमत 111 डॉलर प्रति बैरल के आसपास थी. ऐसे में आमजन को बहुत जल्द पेट्रोल और डीजल की बढ़ी हुई कीमतें झटका दे सकती है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!