हरियाणा सरकार ने खारिज किया राज्य निर्वाचन आयोग का प्रस्ताव, निकाय चुनावों से जुड़ा था मुद्दा

चंडीगढ़।हरियाणा सरकार ने राज्य निर्वाचन आयोग के उस प्रस्ताव को खारिज कर दिया है, जिसमें आयोग द्वारा हरियाणा नगर पालिका कानून 1973 और हरियाणा नगर निगम कानून 1994 में बदलाव का प्रस्ताव दिया गया था. इन दोनों कानूनों में राजनीतिक दल की परिभाषा डालने और साथ-साथ नगर निकायों में निर्वाचित प्रतिनिधियों पर दल-बदल विरोधी प्रविधान लागू करने के बारे में लिखा गया था.

cm and dushant

बता दें कि हरियाणा के कानून में राजनीतिक दलों के चुनाव चिन्हों पर चुनाव करवाने का प्राविधान ही नहीं है. इस बारे में सितंबर 2021 से पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के एडवोकेट हेमंत कुमार द्वारा आयोग को निरंतर लिखा गया कि हरियाणा के मौजूदा नगर निकाय कानूनों और निर्वाचन नियमों के अनुसार आयोग चुनावों में उम्मीदवारों को केवल मुक्त चुनाव चिन्हों)की सूची में से ही चुनाव चिन्ह आवंटित कर सकता है. अर्थात कांग्रेस, बीजेपी, आईएनएलडी और जेजेपी आदि मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय और क्षेत्रीय पार्टियों द्वारा उतारे गए पार्टी उम्मीदवारों को उनकी पार्टी के आरक्षित चुनाव चिन्ह आवंटित नहीं किए जा सकते हैं.

चुनाव आयोग ने इस संबंध में 28 फरवरी को हरियाणा सरकार को पत्र लिखकर कानूनी संशोधन करने का प्रस्ताव किया था. हैरानी वाली बात यह है कि कानून में कोई प्रविधान नहीं होने के बावजूद शहरी निकायों में राजनीतिक दल अपनी पार्टी के चुनाव चिन्हों पर चुनाव लड़ते रहे हैं, जो कि कानून के विरुद्ध था.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में पंचायत चुनाव से पहले होंगे 'शहरी निकाय चुनाव', हाईकोर्ट ने किया रास्ता साफ

चुनाव पर नहीं हुआ अंतिम निर्णय

हरियाणा में 49 नगर निकायों (19 नगर परिषदें और 30 नगर पालिकाएं) के प्रस्तावित आम चुनाव की तारीख को लेकर अभी अंतिम फैसला नहीं लिया गया है. हाल ही में चुनाव आयोग ने फरीदाबाद नगर निगम और पिछले साल बाढड़ा, बादली, आदमपुर और सीवन नगर पालिकाओं की ताजा मतदाता सूचियां बनाने का कार्यकम घोषित किया था जो 20 जून तक पूरा होगा. इस कारण संभवत: उसके बाद ही उपरोक्त सभी 55 नगर निकायों के आम चुनाव करवाए जाएंगे. वहीं आयोग के प्रस्ताव को प्रदेश सरकार ने अतार्किक बताते हुए खारिज किया है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!