JJP विधायक का छलका दर्द, कहा- जब हम गांव जाते हैं तो हमें कहा जाता है आप मत आना

चंडीगढ़ । बजट सत्र के दौरान टोहाना से जननायक जनता पार्टी JJP विधायक देवेंद्र बबली ने अपनी ही सरकार पर प्रश्न खड़े किए हैं. देवेंद्र बबली ने किसान आंदोलन के पक्ष में सदन में बयान दिया और कहा कि यह किसान आंदोलन राज्य के हित में नहीं है और किसानों के हालात काफी चिंताजनक बने हुए हैं. बुजुर्ग किसान एवं महिलाएं, साथ ही छोटे बच्चे राज्य की सीमाओं पर बैठे हुए हैं. यह बहुत ही पीड़ादायक एवं चिंताजनक है. जब भी हम गांवों में जाते हैं तो, “आप गांव में मत आना”. हमें यह कहकर वापस लौटा दिया जाता है. हमें गांव में होने वाले सामाजिक कार्यक्रमों में उपस्थित होने से रोका जाता है. उन्होंने कहा कि मैं पूरी कैबिनेट, उपमुख्यमंत्री एवं मुख्यमंत्री से यह मांग करता हूं कि जल्द से जल्द इस किसान आंदोलन का समाधान किया जाए.

यह भी पढ़े -   अनिल विज का ऑक्सीजन को लेकर बड़ा बयान, बोले- कामकाज कर देना चाहिए मिलिट्री के हवाले

jjp mla

देवेंद्र बबली ने सरकार से किए संगीन प्रश्न

देवेंद्र बबली ने अपनी सरकार पर प्रश्न उठाए और कहा कि हरियाणा सरकार ने मेरे हलके के साथ सौतेला व्यवहार किया है. सरकार में साझेदारी होने के बाद भी मेरे हल्के में कोई भी विकास कार्य नहीं किया गया. उन्होंने हरियाणा सरकार से प्रश्न किया कि क्या टोहाना विधानसभा क्षेत्र के लोगों ने मुझे एक लाख से अधिक वोटों से जिता कर कोई गलती की है क्या? मैं इतनी बड़ी जीत दर्ज करके आया हूं, क्या इसीलिए मेरे हल्के का विकास नहीं किया जा रहा है?

यह भी पढ़े -   खुशखबरी: अब हरियाणा के कॉलेजों में वैकल्पिक विषय के रूप में मिलेगी NCC

सदस्यता छोड़ दूंगा, बस मेरे क्षेत्र का विकास हो -देवेंद्र बबली

उन्होंने कहा कि यदि यही कारण है तो मैं अपनी सदस्यता छोड़ने के लिए भी तैयार हूं, बस मेरे हल्के का विकास होना चाहिए. मेरे विधानसभा क्षेत्र के विकास कार्य को ना रोका जाए, मैं सीट को छोड़ दूंगा. आपको बता दें कि पिछले विधानसभा चुनाव में देवेंद्र बबली ने तत्कालीन बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला को एक लाख से ज्यादा वोटों से हरा दिया था.

यह भी पढ़े -   आखिर दुष्यंत चौटाला के पानीपत जाने के कारण विज ने क्यों किया अपना दौरा रद्द, जाने वजह

दिमाग से नहीं दिल से बात करता हूं -देवेंद्र बबली

बीजेपी विधायक देवेंद्र बबली ने प्रेस मीडिया से वार्तालाप के दौरान कहा कि मैं दिमाग से नहीं, दिल से बात करता हूं. जो बात मेरे मन में होती है, मैं वह कह देता हूं. किसान आंदोलन किसी भी हालत में राज्य के हित में नहीं है. किसान आंदोलन की वजह से राज्य में किसी भी प्रकार का औद्योगिक विकास नहीं हो पा रहा है. हरियाणा सरकार को चाहिए कि वह शीघ्र से शीघ्र समस्या का समाधान करें.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!