1 सितंबर से एलपीजी-सीएनजी के दामों में होगा बदलाव, यहां जानें कैसे तय होता है भाव

चंडीगढ़ | हर महीने की शुरुआत में ईंधन कंपनियां उत्पादों की नई दरें जारी करती हैं. कंपनियां कभी कीमतें बढ़ाती हैं तो कभी कम करती हैं. पहली अगस्त को तेल विपणन कंपनियों ने वाणिज्यिक रसोई गैस सिलेंडर (19 किलो) की कीमत में 36 रुपये की कमी की थी. इससे घरेलू एलपीजी उपभोक्ताओं को सीधे तौर पर फायदा नहीं हुआ.

Gas Cylinder

फिलहाल दिल्ली में घरेलू रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 1,053 रुपये है. आपको बता दें कि जुलाई में दिल्ली में इसकी कीमत इतनी ही थी. एलपीजी की कीमत कई अन्य कारकों के साथ कच्चे तेल की कीमत पर निर्भर करती है. यही हाल सीएनजी का भी है. सीएनजी में भारी बढ़ोतरी से वाहन चालकों का बजट पूरी तरह से डगमगा गया. कीमतें इतनी बढ़ गईं कि टैक्सी सेवाओं को अपना न्यूनतम किराया बढ़ाना पड़ा और यहां तक ​​कि आम आदमी की जेब पर भी बोझ बढ़ा है. दिल्ली में सीएनजी की कीमत फिलहाल 75.61 रुपये (आईजीएल), 80 रुपये (एमजीएल) और 83.9 रुपये (अडानी गैस) है.

क्या सितंबर में बढ़ेंगे दाम

जैसा कि हमने आपको बताया कि रसोई गैस और सीएनजी की कीमतें कई कारकों पर निर्भर करती हैं. जिसमें सबसे बड़ा फैक्टर कच्चे तेल की कीमत है. ब्रेंट क्रूड की कीमतों में कुछ बढ़ोतरी हुई है और फिलहाल यह 99.80 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गई है. हालाँकि, यह अभी भी 100 डालर के आसपास बना हुआ है. इसलिए तेल विपणन कंपनियों द्वारा कीमतों में कटौती की गुंजाइश फिलहाल नजर नहीं आ रही है. पिछले 2 महीने से घरेलू रसोई गैस की कीमतों में कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ है, इसलिए इसमें मामूली बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है. सीएनजी की बात करें तो कंपनियां पिछले कुछ महीनों से लगातार इसकी कीमतों में इजाफा कर रही हैं. इसमें कमी या वृद्धि दोनों की संभावना कम है. संभव है कि सीएनजी की कीमतें इसी स्तर पर बनी रहें.

यह भी पढ़े -   हरियाणा में छोटे व्यापारियों पर सौगातों की बौछार, लागू हुई 'मुख्यमंत्री व्यापारी क्षतिपूर्ति बीमा योजना'

मूल्य कैसे निर्धारित किया जाता है

एलपीजी की कीमत निर्धारित करने के लिए आयात समता मूल्य सूत्र का उपयोग किया जाता है. इसमें कच्चे तेल की कीमत, समुद्री माल भाड़ा, बीमा, सीमा शुल्क, बंदरगाह लागत, डॉलर से रुपया विनिमय, माल भाड़ा, तेल कंपनी मार्जिन, बॉटलिंग लागत, विपणन खर्च, डीलर कमीशन और जीएसटी शामिल हैं. लगभग यही कारक सीएनजी की कीमतों को भी प्रभावित करते हैं. इसमें एक बड़ा अंतर यह है कि सीएनजी कच्चे तेल से नहीं बल्कि प्राकृतिक गैस से बनती है. इसलिए प्राकृतिक गैस का असर सीएनजी की कीमतों पर पड़ रहा है. भारत अपनी जरूरत के आधे से ज्यादा प्राकृतिक गैस का आयात करता है.

हमें Google News पर फॉलो करे- क्लिक करे! हरियाणा की ताज़ा खबरों के लिए अभी हमारे हरियाणा ताज़ा खबर व्हात्सप्प ग्रुप में जुड़े!